झोलाछाप की दवा से गर्भवती की मौत

Rampur Updated Tue, 12 Jun 2012 12:00 PM IST
स्वार। जिले में एक बार फिर अनट्रेंड हाथों ने महिला की जान ले ली। नवाब नगर की गर्भवती महिला को झोलाछाप डाक्टर ने गलत दवा दे दी। दवा ने रिएक्शन किया तो महिला की हालत बिगड़ने लगी। परिजन आनन-फानन में उसे लेकर उत्तराखंड गए, लेकिन वहां इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया। महिला की मौत से गुस्साए परिजनों ने झोलाछाप के क्लीनिक पर हंगामा किया। बवाल बढ़ता देख झोलाछाप अपनी एक महिला सहयोगी के साथ फरार हो गया। मामले की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई है।
अपने जनपद में झोलाछाप डाक्टरों का लंबा-चौड़ा नेटवर्क है। सर्दी जुकाम से लेकर गंभीर बीमारियों तक के इलाज का ये दावा करते हैं। ग्रामीण भी गांव से दूर सरकारी अस्पताल ले जाने की बजाए झोलाछाप डाक्टरों से इलाज कराते हैं। जिले में अब तक झोलाछाप डाक्टरों के इलाज से कई लोगों की मौत हो चुकी है। फिर भी प्रशासन इन तथाकथित डाक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा। ताजा मामला गांव नवाब नगर का है। गांव निवासी एक गर्भवती की रविवार को हालत बिगड़ने पर उसका पति नरपत नगर स्थित झोलाछाप डाक्टर के क्लीनिक पर गया था। आरोप है कि झोलाछाप और उसकी सहयोगी महिला के गलत दवाई देने से गर्भवती को रिएक्शन हो गया। जिस कारण महिला की हालत बिगड़ गई। क्लीनिक पर ही उसको गर्भपात हो गया। महिला का गर्भपात होने से झोलाछाप डाक्टर और सहयोगी महिला घबरा गए। सूचना पर परिजनों ने क्लीनिक पर जमकर हंगामा काटा। इस दौरान डाक्टर और सहयोगी महिला मौका पाकर फरार हो गए। परिजन आनन फानन में महिला को उत्तराखंड के निजी चिकित्सालय ले गए। जहां उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। शाम तक समझौते का दौर चला। बाद में शव सुपुर्दे-ए-खाक कर दिया गया। मामले की रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई है।

Spotlight

Related Videos

गुरुवार को इस मुहूर्त पर न करें कोई भी काम, लगा है राहुकाल

जानना चाहते हैं कि गुरुवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र, दिन के किस पहर में करने हैं शुभ काम और कितने बजे होगा शुक्रवार का सूर्योदय? देखिए, पंचांग गुरुवार 22 फरवरी 2018।

22 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen