24 दिन में मिट्टी में दफन हो गईं 11 जिंदगी

Rampur Updated Mon, 11 Jun 2012 12:00 PM IST
रामपुर। जिंदगी की कीमत क्या वाकई सस्ती होती जा रही है। 24 दिन में 11 जिंदगियां मिट्टी में यूं ही दफन हो गईं। इन सबके बाद भी न तो ग्रामीण सबक ले रहे हैं और न ही प्रशासनिक अमला।
ग्रामीण बेहद मजबूरी में अपने आशियानों की मरम्मत करने के लिए मिट्टी चुनते हैं। इनमें बच्चों से लेकर महिलाएं तक शामिल होती हैं। ग्रामीण इलाकों में मिट्टी खोदे जाने का सिलसिला कोई नया नहीं है। लेकिन, हादसे पर हादसे होने के बाद भी ग्रामीण बिना जिंदगी की परवाह किए बगैर गड्ढे और तालाबों की खुदाई करने में लग जाते हैं। मिलक चिकना गांव में 16 मई की सुबह कुछ ऐसा ही हुआ। यहां पर एक दो नहीं बल्कि पांच जिंदगी मिटट्ी में यूं ही दफन हो गईं। हादसे के बाद सरकारी राहत देकर सरकारी अमले न पल्ला झाड़ लिया। इसी दिन पनवड़िया के पास नाले की मिट्टी गिरी और इसमें दो मजदूर दबकर मौत के मुंह में समा गए। 24 दिन में 11 जिंदगियां दफन हो गईं,लेकिन सबक लेने को कोई तैयार नहीं है। सरकारी अमले की ओर से ग्रामीणों को इस मुद्दे पर जागरूक करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया। जरूरत ग्रामीणों को भी जागरूक करने की है।

Spotlight

Related Videos

Super 30: 10 मिनट में देखिए देश और दुनिया की 30 बड़ी खबरें, फटाफट अंदाज में

सुपर 30 बुलेटिन में अमर उजाला टीवी आपके लिए लेकर आया 30 बड़ी खबरें, जो आपको सिर्फ 10 मिनट में दिखाई जाएंगी।

25 मई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं।आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते है हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen