आला हजरत में महिलाओं से छेड़छाड़, हंगामा

Rampur Updated Sun, 10 Jun 2012 12:00 PM IST
रामपुर। तीर्थयात्रा से वापस लौट रही महिला यात्रियों के संग आला हरजत एक्सप्रेस में दैनिक यात्रियों ने छेड़छाड़ की। विरोध करने पर ट्रेन में चल रहे जीआरपी के स्क्वायड ने भी साथ नहीं दिया, जिस पर ट्रेन के रामपुर पहुंचने पर हंगामा खड़ा हो गया। इस दौरान स्कवायड में तैनात दोनों पुलिस कर्मियों के साथ महिलाओं की खूब नोंकझोंक भी हुई। महिलाओं ने छेड़छाड़ के साथ ही कुंडल लूटने का आरोप लगाया है। जीआरपी ने छह युवकों के खिलाफ मुकदमा कायम कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
शहर कोतवाली क्षेत्र की इंदिरा कालोनी निवासी अखिल शर्मा की पत्नी उर्मिला और पड़ोस में रहने वाली नीलम सिंह, गर्बिना सिंह, पूर्णिमा सिंह और अन्य लोग शनिवार को बालाजी से आला हजरत एक्सप्रेस से वापस लौट रहे थे। सभी महिलाएं आला हजरत के एस-छह की बोगी में सवार हुई थी। महिलाओं का आरोप है कि गाजियाबाद से छह युवक ट्रेन में सवार हुए और उनकी सीटों पर कब्जा करने लगे। इसको लेकर विरोध किया तो उनके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी। इस बीच मामले की शिकायत ट्रेन में चल रहे जीआरपी के स्क्वायड से की गई तो उन्होंने भी कोई कार्रवाई नहीं की बल्कि पुलिस कर्मी भी युवकों का साथ देने लगे। महिलाओं का आरोप था कि युवक हापुड़ स्टेशन पर उतर गए,लेकिन पुलिस कर्मियों ने उन्हें नहीं रोका। ट्रेन में ही छीना झपटी हुई इस दौरान युवकों ने उर्मिला व नीलम के कुंडल भी छीन लिए। बाद में महिलाओं ने मामले की जानकारी फोन से अपने परिवार के लोगों को दी तो सूचना पाकर परिवार के लोग भी स्टेशन पर पहुंच गए। यहां पहुंचते ही परिवार के लोगों ने जीआरपी को सूचना दी। सूचना जीआरपी एक्टिव हो गई। जीआरपी ने ट्रेन में चल रहे स्कवायड के कर्मियों को उतार लिया। मगर, कुछ ही देर में ट्रेन चलने लगी तो सिपाही यहां से खिसकने लगे। इस बीच महिलाओं ने सिपाहियों को घेरने की कोशिश की। इस दौरान छीना झपटी हुई तो एक पुलिस कर्मी की वरदी का सोल्डर हाथ में आ गया,लेकिन दोनों पुलिस कर्मी ट्रेन में सवार होकर चले गए। बाद में शिक्षक की ओर से जीआरपी में तहरीर दी गई। तहरीर के आधार पर जीआरपी ने छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है।

Spotlight

Related Videos

15 साल पहले जिस जेल में आजाद बनाएं गए कैदी वहां सीएम योगी ने पहुंचे किया ये

वाराणसी सेंट्रल जेल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा का अनावरण किया। बता दें कि 15 साल की उम्र में चंद्रशेखर आजाद को अंग्रेजों ने इसी जेल में कैदी बनाया था।

20 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen