एनेक्सी भवन बनाने का रास्ता साफ

Rampur Updated Sun, 10 Jun 2012 12:00 PM IST
रामपुर। रजा लाइब्रेरी के प्रस्तावित एनेक्सी भवन के निर्माण को शनिवार को लाइब्रेरी बोर्ड की बैठक में हरी झंडी दे दी गई। गवर्नर और लाइब्रेरी बोर्ड के अध्यक्ष की गैर मौजूदगी में हुई बैठक में सदस्यों ने इस प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है। अब एनेक्सी भवन के निर्माण का बजट तैयार कर इसको केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा। इसके लिए अब तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।
रामपुर रजा लाइब्रेरी बोर्ड की बैठक शनिवार को बोर्ड के चेयरमैन और गवर्नर की गैर मौजूदगी में ही हुई। गवर्नर बीएल जोशी का कार्यक्रम अचानक स्थगित हो जाने की सूचना के बाद जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय डेलनेट के निदेशक डा.एचके कौल की अध्यक्षता में बैठक की कार्यवाही शुरू हुई। तेरह सदस्सीय बोर्ड की बैठक करीब डेढ़ घंटे से ज्यादा समय तक चली। बैठक में लाइब्रेरी की ओर से प्रस्तावित एजेंडे को रखा गया, जिस सदस्यों के बीच बिंदुवार चरचा की गई। बैठक में सबसे महत्वपूर्ण एजेंडा लाइब्रेरी का एनेक्सी भवन बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था, जिसे बोर्ड के सदस्यों ने हरी झंडी दे दी। अब इस भवन का बजट बनाकर तैयार किया जाएगा और फिर इसे केंद्र सरकार को भेज दिया जाएगा। बैठक में कई रजा लाइब्रेरी के मौजूदा भवन की मरम्मत कराने के प्रस्ताव को भी हरी झंडी दे दी गई। इसका भी बजट तैयार कर सरकार को भेजा जाएगा। बोर्ड की मीटिंग के बाद लाइब्रेरी के निदेशक प्रो.एसएम अजीजउद्दीन हुसैन ने बताया कि बोर्ड की मीटिंग में कई प्रस्तावों पर मुहर लग गई है। बैठक में यह भी फैसला हुआ कि लंबे समय से जो पद रिक्त चल रहे हैं। उन्हें भी भरा जाएगा। साथ ही लाइब्रेरी की ओर से इस साल में कई महत्वपूर्ण पुस्तकों का प्रकाशन किया जाएगा। उनके मुताबिक लाइब्रेरी का आम बजट को बढ़ाने की भी बात हुई है। इस पर भी केंद्र जल्द ही अपनी मंजूरी दे देगा। इस मौके पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के फारसी शोध संस्थान के निदेशक प्रो. अजरमी दुख्त, लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रो. पीके घोष, प्रो. केके त्रिवेदी, संस्कृति मंत्रालय (लाइब्रेरीज) निदेशक डा. पीआर गोस्वामी, नवाब मोहम्मद अली खां उर्फ मुराद मियां, जिलाधिकारी अनिल ढींगरा आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Related Videos

ट्रेन से कहीं जाने की सोचने से भी पहले ये खबर जरूर देखें

हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में बर्फबारी का असर दिल्ली-NCR समेत उत्तर भारत में दिखाई दिया।

24 जनवरी 2018