हाईस्कूल की परीक्षा में पास होने वालों की बढ़ी संख्या

Rampur Updated Sat, 09 Jun 2012 12:00 PM IST
रामपुर। इसे सतत अंक प्रणाली का ही कमाल कहा जाएगा कि इस बार के रिजल्ट ने पिछले कई सालों का रिकार्ड तोड़ दिया। पिछले साल के मुकाबले 20.84 फीसदी का उछाल आया है। प्रैक्टिकल विषयों में तो खूब नंबर लुटाए गए हैं। यही वजह है कि इस बार रिजल्ट इतना उछला है। इससे कमजोर छात्रों को भी काफी फायदा हुआ है।
सीबीएसई की तर्ज पर यूपी बोर्ड ने भी हाईस्कूल में ग्रेडिंग सिस्टम दो साल पहले लागू किया था। मगर इस साल से सतत अंक प्रणाली को भी लागू कर दिया था। इसके तहत प्रैक्टिकल विषयों के नंबर देने का जिम्मा स्कूल वालों के पास ही था। तीस नंबर का प्रैक्टिकल और 70 अंक की लिखित परीक्षा के अंक जुड़कर ही पूरा रिजल्ट तैयार किया गया। स्कूल वालों ने तीस अंक के प्रैक्टिकल सब्जेक्ट में अधिकतर छात्र-छात्राओं को तीस-तीस नंबर दे दिए। यही वजह रही कि छात्र-छात्राओं के फेल होने के चांस कम हुए और उनके प्रैक्टिकल सब्जेक्ट में नंबर भी ज्यादा आए। इन सबको जोड़कर कुल मार्क्स के आंकड़े भी ज्यादा बैठे हैं। रामपुर की ही बात की जाए रामपुर में 25148 बच्चे पंजीकृत हुए थे, जिसमें 24353 बच्चे परीक्षा में शामिल हुए थे। इनमें से 20390 बच्चे पास हो गए। इस तरह इस बार का रिजल्ट 83.73 फीसदी रहा है जो कि कई साल का रिकार्ड टूटा है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: अपने पिता राजीव गांधी को याद कर भावुक हुए राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए भावुक हो गए। राहुल ने लिखा कि मेरे पिता ने बेहतर इंसान बनना सिखाया। उन्होंने मुझे सभी को प्यार और सम्मान देना सिखाया।

21 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen