विकास केनाम पर विनाश आ रहा निकट

Rampur Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
रामपुर। विकास की छलांग लगाते हुए धरती के विनाश केलिए बड़े-बड़े गड्ढे खोदे जा रहे हैं। धरती का पारिस्थतिकी तंत्र और खाद्य श्रृखला बिगड़ गई है। कभी इमारतें बनाने को तो कभी बड़े-बड़े मार्ग के नाम पर हमेशा पर्यावरण की ही बली दी जा रही है। कभी वनों से ढके रामपुर क्षेत्र में दो ही स्थानों पर जंगल रह गए हैं। वे भी संरक्षित होने की वजह से बचे हुए हैं।
करीब चार दशक पूर्व रामपुर की धरती पर तेंदुआ हिरन का शिकार करता था। उसकी दहाड़ से जंगल गूंजा करता था। अब उसकी दहाड़ इस क्षेत्र में लुप्त होने केसाथ गायब हो गई है। मांसाहारी वन्य पशुओं के गायब होते ही क्षेत्र में शाकाहारी वन्य पशुओं का आंतक बढ़ गया। पर्यावरण जनकल्याण समिति केअध्यक्ष प्रेमपाल सैनी ने बताया कि जिले में 6610 हेक्टेयर आरक्षित वन क्षेत्र है। इसमें करीब 4 हजार पीपली में है। उन्होंने बताया कि देश की आजादी केवक्त रामपुर क्षेत्र का करीब तीस फीसदी हिस्सा जंगल से ढका था। अब यह घटकर एक चौथाई रह गया है। वन विभाग से प्राप्त जानकारी केअनुसार आरक्षित वन क्षेत्र के2028.8 हेक्टेयर जमीन पर कुछ किसान अपना दावा कर रहे हैं। इसे लेकर वन विभाग को कुछ क्षेत्रीय लोगों से कोर्ट में मामला भी चल रहा है।
सैनी ने बताया कि जनपद में पारिस्थितिकी व खाद्य श्रृंखला बिगड़ गया है। वन कम होने से मांसाहारी वन्य पशु यहां से चले गए हैं। इसकी वजह से शाकाहारी वन्य पशुओं की संख्या में बढ़ोतरी होने से खेती को नुकसान बढ़ गया है। इसके अलावा जंगल बाढ़ और आंधी-तूफान की तेजी पर अंकुश लगाते हैं। जंगल कटने से सीओटू की मात्रा लगातार बढ़ रही है और ऑक्सीजन कम हो रही है। पर्यावरण में आई तब्दीली से एक दशक पूर्व घर केआंगन में चहकती गौरेया भी नजर आनी बंद हो गई है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: जब काजोल को नहीं पहचान पाई उनकी बेटी, अजय देवगन ने कही ये बात

काजोल हाल ही में सिंगापुर पहुंचीं, जहां मैडम तुसाद म्यूजियम में उनका मोम का पुतला लगाया गया है। काजोल ने इस पुतले के साथ जमकर फोटोग्राफी कराई।

25 मई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं।आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते है हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen