नकली निकला अस्पताल का इंजेक्शन

Rampur Updated Wed, 30 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

रामपुर। सरकारी अस्पताल में मिलने वाली दवाओं पर भरोसा करने वालों के लिए अच्छी खबर नहीं है। अस्पतालों में ताकत के लिए लगाया जाने वाला इंजेक्शन भी नकली निकला। उसमें क ाले रंग के कण पाए गए हैं जो कि सेहत बनाने के बजाए खतरा पैदा कर सकते थे। मामले का खुलासा होने पर अब इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।
विज्ञापन

सरकारी अस्पतालों में दवाओं की सप्लाई के नाम पर खूब धांधली की जा रही है। यहां मरीजों को दी जाने वाली दवा सेहत बनाने के बजाए बिगाड़ रही है। दो साल पहले मुख्य चिकित्साधिकारी के औषधि भंडार से सरकारी दवाओं के सैंपल भरे गए थे। इस दौरान मल्टीविटामिन वीटारोन इंजेक्शन का सैंपल भरा गया था, जिसे जांच के लिए लैब भेजा गया था। लैब से दो साल बाद जांच रिपोर्ट भेजी गई है। यह रिपोर्ट मंगलवार को आ गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक मल्टीविटामिन वीटारोन इंजेक्शन में काले रंग के कण पाए गए हैं जो कि इंजेक्शन लगने के बाद शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इंजेक्शन का सैंपल फेल होने के बाद औषधि विभाग की टीम ने इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी को नोटिस जारी करते हुए उससे जवाब तलब किया है। औषधि निरीक्षक अरविंद गुप्ता के मुताबिक इंजेक्शन का सैंपल फेल हो गया है। इस मामले में औषधि विभाग भंडार से भी पूछताछ की गई थी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us