महंगाई की आग को और भड़काएगी पेट्रोल

Rampur Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
रामपुर। केंद्र की यूपीए सरकार ने सत्ता में आने की तीसरी वर्षगांठ पर पेट्रोल की कीमतों में 7.50 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि का उपहार दिया है। इससे आम आदमी का बजट गड़बड़ा जाएगा। इससे जहां महंगाई की आग और भड़केगी। आम आदमी की जेब और हल्की होगी।
बदलते हुए दौर में दोपहिया और चौपहिया वाहन लोगों की जरूरत बन गए हैं। ऐसे में पेट्रोल की कीमत में एक साथ साढ़े रुपये प्रति लीटर की वृद्धि। इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के चेयरमैन आकाश सक्सेना हनी कहना है कि सरकार के उपर पेट्रोल के रेट बढ़ाने का दबाव तो था, लेकिन यह वृद्धि बहुत है। इस वृद्धि का चौतरफा असर पड़ेगा। आम आदमी का बजट प्रभावित होगा। इसके साथ ही अन्य पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स जैसे पालिमर, वैक्स के रेट भी बढ़ जाएंगे। सरकार को कीमतों में वृद्धि को लेकर स्पष्ट नीति बनानी चाहिए।
व्यापारी नेता संदीप अग्रवाल सोनी का कहना है कि केंद्र सरकार आमलोगों के सब्र का परीक्षा ले रही है। केंद्र सरकार की नीतियों से लोग तंग आ चुके हैं। सरकार ना तो अर्थव्यवस्था को मजबूती दे सकी है और ना ही आम आदमी को महंगाई से निजात। महंगाई की मार इन तीन सालों में कई गुना तक बढ़ गई है। सरकार ने पेट्रोल के रेट बढ़ा दिए है और अब डीजल और रसोई गैस के रेट बढ़ाने की तैयारी कर रही है।
वीर खालसा सेवा समिति के अवतार सिंह ने भी पेट्रोल की कीमतों में कई गई वृद्धि की कड़े शब्दों में निंदा की है। उनका कहना है कि इससे तो लोगों का स्कूटर- मोटरसाइकिल पर चलना मुश्किल हो जाएगा। अन्य औद्योगिक और व्यापरिक संगठनों, किसान संगठनों ने पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि को गलत बताया है।

Spotlight

Related Videos

डीजल चोरी के आरोप में तीन लोगों को बेरहमी से पीटा

मध्यप्रदेश के जबलपुर से एक दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में एक व्यक्ति ने तीन दलित लोगों की डीजल चोरी के आरोप में बेरहमी से पिटाई कर दी।

17 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen