विज्ञापन

किशोरोें को बंधक बनाकर कराई मजदूरी

Rampur Updated Wed, 23 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
स्वार। फैक्ट्री में पैकिंग कराने को लेकर गये किशोरों कोे बगैर पगार दिए काम कराया गया। पगार मांगने पर मारापीटा और बंधक बनाकर काम कराया गया। किसी तरह ठेकेदार के चंगुल से भागे दो किशोरों ने नगर में पहुुंचकर आपबीती सुनाई। बाद में परिजनों के संपर्क करने पर अन्य किशोर भी नगर पहुंचे। मामले से पुलिस को अवगत नहीं कराया गया है।
विज्ञापन
नगर के मोहल्ला स्वार खास निवासी व्यक्ति ने रिश्तेदार मुरादाबाद निवासी दो ठेकेदारों के साथ नगर के करीब 15 किशोरोें रवि किशन पुत्र हरि सिंह, बोबी ठाकुर पुत्र मुकंदराम, सूरज पुत्र छोटे लाल, राकेश पुत्र घनश्याम, दिनेश पुत्र धारा सिंह, रजत, बंटी, इरफान, महेश, अर्जुन, विकास, सोनू, शावेज को हिमाचल प्रदेश के बददी में एक दवाईयों की फैक्ट्री में पैकिंग का कार्य कराने को कह कर लेकर गया था। आरोप है कि हिमाचल प्रदेश पहुुुंचते ही ठेकेदार ने किशोरोें को फैक्ट्री में पैकिंग के कार्य पर लगा दिया। दो माह काम करने के बावजूद ठेकेदारों ने किशोरोें को कोई पगार या मजदूरी नहीं दी। किशोरों द्वारा काम करने से मना करने पर मारपीट की गई और बंधक बना लिया। किसी तरह ठेकेदार के चंगुल से छूटकर भागे दो किशोर रविवार को नगर में घरों पर पहुंचे। उन्होंने परिजनों को आपबीती सुनाई। बाद में अन्य परिजनों के हिमाचल प्रदेश संपर्क करने पर दोनाें ठेकेदार किशोरों को छोड़कर बददी से फरार हो गए। तब अन्य किशोर किसी तरह घर वापस आए और रोते बिलखते ठेकेेदारों द्वारा किये गये जुल्म के बारे में जानकारी दी। किशोरोें का आरोप है कि ठेकेदार ने केवल खाना खाने के लिये ही पैसे दिए। फैक्ट्री में दो माह से अधिक काम कराने के बावजूद कोई पगार नहीं दी। गौरतलब है कि गत अप्रैल माह में भी नगर के एक दर्जन से अधिक किशोर हिमाचल प्रदेश के बददी गांव से ही एक ठेकेदार के चंगुल से छूटकर वापस घर पहुंचे थे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

सत्ता का सेमीफाइनलः गुना में सुरक्षा और महंगाई बड़ा मुद्दा

सत्ता के सेमीफाइनल का चुनावी रथ मध्यप्रदेश के गुना पहुंचा। यहां हमने जाने आधी आबादी के अहम मुद्दे जानने की कोशिश की। आइए जानते हैं क्या हैं वो मुद्दे। क्या नेताओं की लिस्ट में शामिल हो पाएंगी महिलाओं की ये परेशानियां।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree