खराब पानी से बच्चे डायरिया के शिकार

Rampur Updated Sun, 20 May 2012 12:00 PM IST
रामपुर। सावधान हो जाइए! ओटी टेस्ट (आर्थोटोडिलीन टेस्ट) में पालिका का पानी फिर फेल हो गया है। लोगों को दूषित जल पीने को मजबूर होना पड़ रहा है। यह जांच एक दर्जन मुहल्लों में हुई थी, जहां परिणाम निगेटिव सामने आएं हैं। ऐसे में जहां पालिका लापरवाही कर बीमारियों को बढ़ावा दे रही है तो वहीं प्रशासन और सेहत महकमा इस लापरवाही पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है।
शहर का पानी पीने लायक नहीं है। कई मुहल्लों में दूषित पानी सप्लाई किया जा रहा है। पानी को शुद्ध करने के जो इंतजाम होने चाहिए, वह नहीं अपनाए जा रहेहैं। इससे शुद्घ पानी घरों तक नहीं पहुंच पा रहा है। इस वर्ष की बात करें तो हर महीनें कई नमूने फेल साबित हो चुके हैं, लेकिन फिर भी पालिका नहीं चेत रही है। मई माह में भी पेयजल की टेस्टिंग भी की गई थी। सेहत महकमें की एक टीम ने पालिका के कर्मचारियों के साथ शहर के तमाम मुहल्लों में ओटी टेस्ट से पानी की जांच की थी। पखवाड़े भर चली इस जांच में सात नलकूपों के नमूने लिए गए थे, यह सभी फेल घोषित हो गए हैं। वहीं 52 नमूने पॉजिटिव भी आए हैं। आर्थोटोडिलीन टेस्ट से निगेटिव हुए नमूनों से यह बात साफ हो गई है कि ओवर हेड टैंकों में ब्लीचिंग पाउडर नहीं घोला जा रहा है, इससे घरों में आ रहे दूषित पानी को पीकर लोग बीमार हो रहे हैं।


-नमूने फेल एक नजर में-
3 मई - हाजियानी चौक और तवन चियान से लिया नमूना निगेटिव, यहां फिजीकल कालेज नलकूप से पानी सप्लाई होता है।
4 मई - भैंस खाना और सराय गेट से लिया नमूना निगेटिव, यहां फिजीकल कालेज के नलकूप से पानी सप्लाई होता है।
7 मई - मुहल्ला सीपियान और जाटव बस्ती से लिया नमूना फेल, यहां घेर नज्जू खां नलकूप से पानी सप्लाई होता है।
8 मई - नालापार से लिया पानी का नमूना भी निगेटिव, यहां अल्ला हू दादा की मजार से पानी सप्लाई होता है।
9 मई - गंगापुर कचहरी के सामने से लिया पानी का नमूना भी फेल, यहां वाटर बाक्स नलकूप से पानी सप्लाई होता है।
10 मई - पक्का बाग दालमील से लिया पानी का नमूना निगेटिव, यहां घेर नज्जू खां नलकूप से पानी सप्लाई होता है।
15 मई -मुहल्ला रज्जर चौकी रोड और अंगूरी बाग, यहां अंगूरी बाग नलकूप से पानी सप्लाई होता है।

पानी की जांच लैब के अलावा आर्थोटोडिलीन टेस्ट (ओटी) से भी की जाती है। यह एक कैमिकल होता है, जो पानी की गुणवत्ता को बताता है। इस कैमिकल में पानी डालने के बाद यदि वह लाल हो जाती है, तो पानी ब्लीचिंग पाउडर युक्त मान लिया जाता है। लेकिन यदि पानी सफेद रहता है तो उसे अशुद्घ करार कर दिया जाता है।
डा. वीके त्यागी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी


मैंने हाल ही में ईओ का चार्ज संभाला है। पानी के दूषित होने की शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी। ओवर हेड टैंकों में ब्लीचिंग पाउडर डाला जाएगा। यह निर्देश संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को दिए जाएंगे और इसे सख्ती से पालन भी करवाया जाएगा।
शहंशाह वली खां, अधिशासी अधिकारी, पालिका

Spotlight

Related Videos

VIDEO: व्यापारी पर दिनदहाड़े हमला, बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ आए दिन प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था  पहले से बेहतर होने का दावा करते हैं, लेकिन प्रदेश में हो रही घटनाएं दूसरी तरफ ही इशारा करती है।

22 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen