लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   शिया वक्फ बोर्ड ने दाखिल की आपत्ति

शिया वक्फ बोर्ड ने दाखिल की आपत्ति

Rampur Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
रामपुर। हुसैनी सराय को गिराए जाने के मामले पर लगी रोक अब दस जुलाई तक के लिए बढ़ गई है। इस मामले में बृहस्पतिवार को शिया वक्फ बोर्ड की ओर से आपत्ति दाखिल की गई, जिस पर अब सुनवाई दस जुलाई तक के लिए टाल दी गई।

विकास भवन के निकट वक्फ बोर्ड की जमीन पर हुसैनी सराय का निर्माण कराया जा रहा है। पहले 98 दुकानों भी निर्माण कराया गया है। उसके प्रथम तल पर मुसाफिर खाना बनाने का प्लान है। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश शिया वक्फ वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने हुसैनी सराय के निरीक्षण में कई कमियां पाते हुए निर्माण कार्य पर रोक लगा दी थी। बाद में यहां बनी 34 दुकानें सील कर दी थीं। साथ ही हुसैनी सराय की दुकानों को गिरवाने के आदेश दिए थे। इसके खिलाफ माजिया बिल्डर्स के प्रबंध निदेशक नासिर अली खां व कैथवाली मसजिद निवासी नासिर अली खां पुत्र अनवार खां ने सिविल जज सीनियर डिवीजन की कोर्ट में वाद दायर किया था,जिस पर कोर्ट ने हुसैनी सराए को गिरए जाने पर रोक लगा दी थी। इस मामले में शिया वक्फ बोर्ड ने कोर्ट में स्टे को चैलेंज करते हुए आपत्ति दाखिल कर चुका है। सिविल जज सीनियर डिवीजन अरुण कुमार मल की कोर्ट में बृहस्पतिवार को मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान वक्फ बोर्ड की ओर से आपत्ति दाखिल की गई,जिसमें कहा गया कि वादी की ओर से सरकार को पक्षकार नहीं बनाया गया है और मुतवल्ली नवेद मियां द्वारा गलत तरीके से दुकानों को बनाने की अनुमति दी गई जो कि गलत है। जबकि अन्य पक्षकारों की ओर से आपत्ति दाखिल करने के लिए समय की मांग की गई। कोर्ट ने मामले की सुनाई करते हुए दस जुलाई तक हुसैनी सराय को गिराए जाने पर लगी रोक को बढ़ा दिया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00