बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

पूर्व चेयरमैन के घर पर नोटिस चस्पा

Rampur Updated Wed, 16 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

स्वार। नगर पालिका में सरकारी धन की लाखों की हेराफेरी में फंसे नगर पालिका अध्यक्ष एवं उनके निलंबित लिपिक भाई की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने नगर में मुनादी कर दोनों के आवासों पर नोटिस चसपा कर दिया। दोनों के घरों पर नोटिस चसपा करने के दौरान घरोें में सन्नाटा पसरा रहा। आसपास भारी संख्या में भीड़ तमाशबीन बनी रही।
विज्ञापन

नगर पालिका में जांच के बाद 27 लाख की धोखाधड़ी में फंसे पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष हाजी रईस अहमद अंसारी एवं आदर्श नगर योजना में घपलेबाजी में फंसे उनके लिपिक भाई शफीक अहमद पर शासन ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। गत दिनोें पुलिस ने उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने के बाद घरोें पर दबिश दी थी। दोनों के भूमिगत होने के चलते पुलिस पकड़ नहीं सकी। तब से पूर्व पालिकाध्यक्ष एवं उनके निलंबित लिपिक भाई के भूमिगत होने के चलते पुलिस गिरफ्तारी को लेकर अंधेरे में तीर चला रही है। मंगलवार को वरिष्ठ उपनिरीक्षक जगदीश प्रसाद राज ने भारी पुलिस बल के साथ धोखाधड़ी में फंसे पूर्व पालिकाध्यक्ष एवं निलंबित लिपिक भाई के नगर स्थित आवासों पर दबिश देकर धारा 82 के तहत नोटिस चस्पा कर दिए हैं। इस दौरान दोनों के आवासों पर सन्नाटा पसरा रहा, जबकि इर्दगिर्द जुटी भीड़ तमाशबीन बनी रही। इससे पूर्व पुलिस ने नगर में लाउड स्पीस्कर से दोनों की गिरफ्तारी एवं न्यायालय में आत्मसमर्पण संबंधी मुनादी करायी जिसमें अवहेलना पर चेतावनी दी है। नगर में पहली बार इस तरह की मुनादी की गई है। कार्यवाहक कोतवाल डीसी शर्मा ने बताया कि न्यायालय में आरोपियों द्वारा समर्पण नहीं करने पर कुर्की कर दंडात्मक कड़ी कार्रवाई अमल में लायी जायेगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us