लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   सलाम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी

सलाम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी

Rampur Updated Sun, 06 May 2012 12:00 PM IST
रामपुर। जिला पंचायत अध्यक्ष अब्दुल सलाम की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पहले तो बसपा ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया फिर वार्ड नंबर 13 की सदस्य के इस्तीफे को लेकर विवाद खड़ा हो गया और अब जिला पंचायत सदस्य उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में जुट गए हैं। इसको लेकर लेकर जिला पंचायत सदस्यों की गुप्त बैठक भी शुरू हो चुकी है।

जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी अंदरखाने से उस वक्त शुरू हो गई थी जब 27 अप्रैल को कैबिनेट ने उत्तर प्रदेश क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत संशोधन विधेयक-2011 को वापस लेने का लिया था। यह संशोधित विधेयक बसपा सरकार ने राज्यपाल के पास भेजा था, लेकिन राज्यपाल ने इसे मंजूरी नहीं थी। बसपा सरकार ने इस विधेयक में प्रावधान रखा गया था कि जिला पंचायत अध्यक्ष व पंचायत प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पद ग्रहण करने के दो साल बाद लाया जाए। सपा ने सरकार ने इस विधेयक को वापस ले लिया है, लिहाजा अब जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ एक साल के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकता है। अब्दुल सलाम को जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठे हुए लगभग डेढ़ साल हो चुके हैं।

जानकारों की माने तो अब्दुल सलाम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की तैयारी शुरू हो चुकी है। इसको लेकर जिला पंचायत सदस्य लामबंद भी होने लगे हैं। जिला पंचायत में दलगत राजनीति की कोई प्रतिबद्धता नहीं है, लिहाजा सदस्य किसी भी पक्ष में जा सकता है। जिला पंचायत के सूत्रों के मुताबिक अभी जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए 14 सदस्यों को जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत होकर शपथपत्र देना होगा कि अध्यक्ष में मेरा विश्वास नहीं रह गया है। वर्तमान परिस्थितियों में अगर जिला पंचायत के 14 सदस्य अब्दुल सलाम के विरोध में चले जाते हैं तो उनको अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ेगी। सलाम के सामने सबसे बड़ी परेशानी यह है कि किसी भी राजनीतिक दल का कोई भी बड़ा नेता उनके साथ नहीं है। कभी वो सपा में भी रह चुके हैं, अब बसपा ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। कांग्रेस ने अपने दरवाजे अभी तक बंदकर रखे हैं, भाजपा में जा नहीं सकते। हालांकि अब्दुल सलाम अपने खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की किसी संभावना से इंकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि मेरे साथ 27 में से 20 सदस्य हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00