विज्ञापन

सलाम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी

Rampur Updated Sun, 06 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
रामपुर। जिला पंचायत अध्यक्ष अब्दुल सलाम की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पहले तो बसपा ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया फिर वार्ड नंबर 13 की सदस्य के इस्तीफे को लेकर विवाद खड़ा हो गया और अब जिला पंचायत सदस्य उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में जुट गए हैं। इसको लेकर लेकर जिला पंचायत सदस्यों की गुप्त बैठक भी शुरू हो चुकी है।
विज्ञापन
जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी अंदरखाने से उस वक्त शुरू हो गई थी जब 27 अप्रैल को कैबिनेट ने उत्तर प्रदेश क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत संशोधन विधेयक-2011 को वापस लेने का लिया था। यह संशोधित विधेयक बसपा सरकार ने राज्यपाल के पास भेजा था, लेकिन राज्यपाल ने इसे मंजूरी नहीं थी। बसपा सरकार ने इस विधेयक में प्रावधान रखा गया था कि जिला पंचायत अध्यक्ष व पंचायत प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पद ग्रहण करने के दो साल बाद लाया जाए। सपा ने सरकार ने इस विधेयक को वापस ले लिया है, लिहाजा अब जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ एक साल के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकता है। अब्दुल सलाम को जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठे हुए लगभग डेढ़ साल हो चुके हैं।
जानकारों की माने तो अब्दुल सलाम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की तैयारी शुरू हो चुकी है। इसको लेकर जिला पंचायत सदस्य लामबंद भी होने लगे हैं। जिला पंचायत में दलगत राजनीति की कोई प्रतिबद्धता नहीं है, लिहाजा सदस्य किसी भी पक्ष में जा सकता है। जिला पंचायत के सूत्रों के मुताबिक अभी जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए 14 सदस्यों को जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत होकर शपथपत्र देना होगा कि अध्यक्ष में मेरा विश्वास नहीं रह गया है। वर्तमान परिस्थितियों में अगर जिला पंचायत के 14 सदस्य अब्दुल सलाम के विरोध में चले जाते हैं तो उनको अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ेगी। सलाम के सामने सबसे बड़ी परेशानी यह है कि किसी भी राजनीतिक दल का कोई भी बड़ा नेता उनके साथ नहीं है। कभी वो सपा में भी रह चुके हैं, अब बसपा ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। कांग्रेस ने अपने दरवाजे अभी तक बंदकर रखे हैं, भाजपा में जा नहीं सकते। हालांकि अब्दुल सलाम अपने खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की किसी संभावना से इंकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि मेरे साथ 27 में से 20 सदस्य हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

ऑटो ड्राइवर ने पेट्रोल की कीमत पर पूछा सवाल, तो BJP नेताओं ने कर दी धुनाई

एक ऑटो ड्राइवर को भाजपा नेता से पेट्रोल के दाम पूछना महंगा पड़ गया। सवाल पूछने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने उसके साथ मारपीट की।

19 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree