विज्ञापन

मकान में विस्फोट, युवक घायल

Hamirpur Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
भरूआसुमेरपुर (हमीरपुर)। कस्बे के इमिलियाथोक में शुक्रवार को एक मकान में विस्फोट हो गया, जिससे एक युवक घायल हो गया। गंभीर हालत होने पर डाक्टरों ने घायल को कानपुर रेफर कर दिया। घायल ने गांव के दो लोगों के खिलाफ तहरीर दी है। इसमें पुरानी रंजिश को वजह बताया है। प्रभारी एसडीएम व सीओ सदर सहित सदर विधायक ने घटना स्थल का जायजा लिया।
विज्ञापन
विज्ञापन
घटना में इमिलियाथोक निवासी बलवान सिंह उर्फ राजू पुत्र रणीधीर सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल ने गांव के शहरफराज खान और इदरीश खान के खिलाफ मामला दर्ज करया है। दोनों आरोपी पिता पुत्र हैं। बताया गया कि विस्फोट तब हुआ जब राजू ने बगिया स्थित कमरे में रखी पालीथिन का उठाया। राजू के हाथ व आंखो में बारूद लगने से वह लहूलुहान हो गया। उसे गंभीर हालत में थाने लाया गया। इसके बाद उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। हालत गंभीर होने पर पहले उसे सदर अस्पताल रेफर किया गया फिर कानपुर रेफर कर दिया गया।
घायल ने बताया कि शुक्रवार सुबह वह बस्ती किनारे नाले के पास स्थित भट्टे से घर वापस आ रहा था। तभी मोहल्ला के इदरीश खान का पुत्र शरफराज को अपनी बगिया से निकलते हुए देखा। शरफराज से पुरानी रंजिश होने के चलते उसे शक हुआ और वह कमरे में पहुंच गया। वहां दरवाजे के पास एक पॉलीथिन में कुछ सामान रखा मिला। पॉलीथिन को उठाते ही विस्फोट हो गया। सूचना पर प्रभारी थानाध्यक्ष इकबाल खान, सदर एसडीएम प्रभारी जेबी सिंह व सीओ सदर एके पांडेय ने मौका मुआयना किया। प्रभारी थानाध्यक्ष ने बताया कि घायल की तहरीर पर मोहल्ला निवासी इदरीश खान व शरफराज खान पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। घायल राजू ने बताया कि पिछले 2005 में उसके पिता रणधीर सिंह व पड़ोसी दुर्गा खटिक की पत्नी की हत्या हुई थी। मामला अदालत में चल रहा है और वह गवाह है। इसके चलते आरोपी उससे रंजिश रखते हैं।
इधर, सदर विधायक साध्वी निरंजन ज्योति भी मौके पर पहुंची। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है और पीड़ित परिवार को ढांढस भी बंधाया। मामले को संवेदनशीलता देखते हुए पुलिस प्रशासन ने थाना बिवांर व ललपुरा थानाध्यक्षों को भी घटना स्थल पर लगा दिया।
इनसेट
दोहरे हत्याकांड के मुख्य गवाह है राजू
भरूआसुमेरपुर (हमीरपुर)। शुक्रवार को कसबे के इमिलिया थोक में हुए विस्फोट को जुलाई 2005 की घटना से जोड़कर देखा जा रहा है। इसमें रणधीर सिंह व पड़ोसी दुर्गा खटिक की पत्नी की हत्या हुई थी। घटना के समय जमकर फायरिंग हुई थी। इसमें रणधीर सिंह घायल हुए थे। बचने के लिए रणधीर सिंह ने बगिया में बने कमरे में छुपने का प्रयास किया तो हमलावरो ने दीवार तोड़कर जलता हुआ सिलेंडर फेंकने का प्रयास किया था। इस घटना से पूरे कसबे में सनसनी फैल गई थी। पीड़ित परिजनों का आरोप था कि राजनैतिक की शह पर मोहल्ला के ही इदरीश खान, कमलेश कोरी सहित 16 लोगों ने वारदात को अंजाम दिया था। मौजूदा समय में हत्याकांड का मामला अदालत में है। मृतक के पुत्र राजू उर्फ बलवान सिंह मामले का गवाह है। घायल राजू सिंह ने बताया कि पहले भी आरोपी मामले को लेकर दबाव डाला जा रहा था। जब वह नहीं माना तो उसे भी साजिश के तहत हत्या करने का प्रयास किया गया है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

VIDEO: एक पवित्र शहर यरूशलम कैसे बना विवादों का गढ़!

इस्लाम, यहूदी और ईसाई धर्म मानने वालों के लिए बेहद पवित्र शहर माने जाने वाला यरुशलम सालों से विवादों के केंद्र में रहा है। ये शहर कई बार उजड़ा और बसा है। आइये जानते हैं कि क्यों विवादों में रहता है ये शहर।

16 दिसंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree