पीड़ित, बेटी के साथ बैठा अनशन पर

Hamirpur Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
मौदहा (हमीरपुर)। उरदना गांव का सुरेश नामदेव शुक्रवार को पुत्री के साथ तहसील परिसर में अनशन पर बैठ गया। उसका आरोप है कि गांव का प्रधान सपा नेता उसकी तीन बीघे जमीन पर जबरिया कब्जा कर जुताई बुआई कर रहा है।
सुरेश ने बताया कि वह दो भाई हैं। दोनों के नाम गाटा संख्या 351 रकबा 1.123 हेक्टेयर भूमि थी। इस भूमि में से सपा नेता व प्रधान सूरजबली यादव ने 1/2 भाग में से सिर्फ केवल 0.511 हेक्टयर भूमि अपनी पत्नी सावित्री के नाम खरीद ली। मगर अब वह उसकी भूमि को भी दबाव बनाकर खरीदना चाहता है। जब उसने यह भूमि बेचने से इंकार कि या तो वह अनधिकृत रूप से खड़ी फसल उजाड़ने के साथ जुताई बुआई कराने से मना करता है। जिससे उसका परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है। यहां तक की बीते तहसील दिवस में उसने न्याय पाने के लिए गुहार लगाई थी। इस पर भी जब कोई कार्रवाई नही हुई तो उसने अपनी इकलौती मासूम बेटी रानी के साथ अनशन शुरू कर दिया। उसकी मांग है कि 3 साल की उजाड़ी फसल का मुआवजा दिलाया जाए। इस भूमि पर जुताई बुआई का हक दिलाया जाए और आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उधर सूरजबली ने बताया कि सुरेश गलत बयान कर रहा है उसकी भूमि पर कोई कब्जा नही किया है। उसका भाई जो भूमि बेंच चुका है। उस पर उसने दीवानी का मुकदमा दर्ज कर दिया है। सुरेश उसे बदनाम कर रहा है।

Spotlight

Related Videos

जंगल से भालू आकर करते हैं इस मंदिर में पूजा

क्या कभी आपने जानवरों को पूजा करते देखा है। छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में है 150 साल पुराना चंडी देवी का मंदिर है जहां भालू पूजा करने आते हैं

19 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen