सात माह से नहीं मिला नलकूप चालकों को मानदेय

Hamirpur Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

हमीरपुर। जलनिगम बांदा की यांत्रिक शाखा से संचालित पेयजल के 88 नलकूपों में कार्यरत आपरेटर बीते सात माह से मानदेय नहीं पा सके है। आपरेटरों ने अपर जिलाधिकारी कार्यालय के सामने प्रदर्शन करने के बाद में ज्ञापन दिया।
विज्ञापन

जिले में बांदा जलनिगम की यांत्रिक शाखा बीते कई साल से नलकूपों की बोरिंग का कार्य करा रही है। बोरिंग के बाद नलकूपों को चालू किया गया है। मौजूदा समय में ऐसे नलकूपों की संख्या 88 पहुंच गई है। निगम की ग्रामीण इलाकों की इन नलकूप पेयजल योजनाओं की हालत खराब है। ज्यादातर नलकूप बंद है हालांकि इन नलकूपों पर जलनिगम ने एक एक आपरेटरों की नियुक्ति कर दी है। नलकूप चालक खेड़ाशिलाजीत के कैलाशचंद्र द्विवेदी, करगवां के राजेंद्र कुमार, गोहांड के नरेंद्र कुमार, बेरी के हेमंत कुमार व विनोद कुमार, बैजेइस्लामपुर के देवसिंह यादव, बंगरा के शिवनाथ तिवारी, बजेहटा के दिलीप कुमार, धौहलबुजुर्ग के नरेश कुमार, पारा के राजू यादव, ककरऊ के सुरेश सहित 26 आपरेटरोें ने बताया कि उन्हें ठेकेदार नेेनलकूप चलाने की जिम्मेदारी दी है। इन लोगों का कहना है कि ठेकेदार प्रत्येक आपरेटर का 3625 रुपए भुगतान निकाल रहा है। जबकि उन लोगों को 1400 रुपए का भुगतान दिया जा रहा है। अपर जिलाधिकारी रमेशचंद्र श्रीवास्तव को दिए ज्ञापन में इन नलकूप चालकों ने वेतन का भुगतान कराने की मांग की।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us