चौपाल लगाकर किसानों को खेती-बाड़ी की जानकारी दें

Hamirpur Updated Thu, 26 Jul 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। खरीफ गोष्ठी में जिलाधिकारी बी चंद्रकला ने कहा कि गांव में चौपाल और प्रदर्शनी के जरिए कृषि की तकनीकी जानकारी हर पंचायतों में पहुंचाने का काम करें। जो किसान इस गोष्ठी में शामिल नहीं हो सके है। उन तक बदलते परिवेश में खरीफ फसल की जानकारी दें।
स्थानीय राजकीय महिला डिग्री कालेज में मृदा परीक्षण की उपयोगिता पर विशेष ध्यान देने को कहा। डीएपी यूरिया और कीटनाशी का अधिक प्रयोग न कर बीमार हो रहे खेतों को बचाएं। उन्होंने इस बात की आवश्यकता पर बल दिया कि मृदा परीक्षण पर आधारित उवर्रकों का प्रयोग करें। अन्ना प्रथा रोकने में ग्रामीणों से सहयोग मांगा। जैविक खेती का क्षेत्रफल बढ़ाने पर जोर दिया। उप कृषि निदेशक उमेश चंद्र कटियार ने अन्ना प्रथा के खिलाफ अभियान चलाने को कहा। उत्पादकता पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। साग भाजी विशेषज्ञ डा.संजीव सचान ने भिंडी, बैगन, मिर्च की बुआई, रोपाई का उचित समय बताया। किसानों से कहा कि वह इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जलनिकासी की उचित व्यवस्था हों। तिलहन के विशेषज्ञ डा.महक सिंह ने तिल नई प्रजातियों की बुआई करने पर बल दिया। उद्यान विभाग के डीके मिश्रा ने पौधरोपण का उचित समय बताया। डा.आरए सिंह ने मूंगफली की खेती पर विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे स्वीडन में वैज्ञानिक डा.रविकुमार पाठक ने किसान एक तिहाई भूमि पर बाग लगाएं। जितने एकड़ जमीन हो उतनी गाय पाले। जैविक खाद और जैविक कीटनाशकों का प्रयोग करें। संचालन हबीब खान ने किया। इस मौके पर सीडीओ केएन लाल, भूमि संरक्षण अधिकारी विनोद यादव, कमल कटियार ने जानकारी दी।

Spotlight

Related Videos

पद्मावत विवाद की पूरी कहानी, देखिए कब कब क्या हुआ!

आखिरकार संजयलीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को अपने नए नाम और कुछ दृश्यों में कट के साथ रिलीज करने का रास्ता साफ हो गया।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper