बादल भी दे रहे हैं धोखा, किसान चिंतित

Hamirpur Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

हमीरपुर। आधा सावन बीतने के बाद भी रिमझिम बरसात की शुरुआत नहीं हो पा रही है। क्षेत्र में हो रही खंड वर्षा से बोई गई खरीफ की फसलों का हाल बुरा है। सावन में गर्म हवाएं चलने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींची हुई हैं। किसानों का मानना है कि अगर वर्षा का यही हाल रहा तो बोई गई फसलों के बीज पर बुरा असर पड़ेगा। यदि अंकुर भी निकल आया और वर्षा न हुई तो भी फसलें बर्बाद हो जाएंगी। वर्षा कम होने के चलते गड्ढों और पोखराें का पानी भी सूखने की कगार पर है। इससे पशुओं के लिए भी पेयजल संकट उत्पन्न हो गया है। जहां सावन में रिमझिम फुहार के साथ लगातार बारिश होनी चाहिए। वहीं आधा सावन बीत जाने के बाद भी गर्म हवाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। आसमान में हल्की बदली तो बनी रहती है। लेकिन वर्षा नहीं हो रही है। अगर वर्षा होती है तो खंडित हो रही है। जहां भी ज्यादा बादल एकत्र हो जाते हैं। उस क्षेत्र में तो वर्षा हो जाती है। लेकिन देखा जाए तो थोड़ी दूरी पर ही बारिश का नामोनिशान नही मिलता। इससे किसानों के माथे पर चिंता की लकीरे झलकने लगी है।
विज्ञापन

खेतों में डाला गया बीज नष्ट हुआ
भमौरा के किसान कबीरूद्दीन का कहना है कि अगर जल्द जोरदार बारिश नहीं हुई तो खेतों में डाला गया बीज भी नष्ट हो जाएगा। साथ ही हरी घास का भी अकाल हो जाएगा। इससे पशुओं के लिए चारे का संकट उत्पन्न हो जाएगा।
अंकुरित होकर निकली पत्तियां भी सूखी
चंदौखी के किसान गयाप्रसाद का कहना है कि खरीफ की फसल में ज्वार, अरहर, तिल व उर्द के बीज खेतों में डाले जा चुके हैं। कुछ खेतों में तो अंकुरित होकर दो दो पत्तियां भी निकल आई हैं। लेकिन बारिश न होने व गर्म हवाएं चलने से इन पत्तियों के सूख जाने के आसार बढ़ गए है। अगर बारिश नही हुई तो किसान बर्बाद हो जाएगा।

सड़क किनारे भरा पानी भी सूखा
चंदौखी गांव के किसान छुन्ना का कहना है कि बारिश होेने से खेतों व सड़क के किनारे के गड्ढे व पोखर पानी से भर गए थे। कई दिनों से बारिश न होने से इन गड्ढों का पानी कीचड़ में तब्दील हो चुका है। इससे एक बार फिर पशुओं के लिए पेयजल संकट उत्पन्न हो गया है। नलकूप संख्या 66 व 23 एचजी चालू हालत में है। लेकिन आपरेटर द्वारा इसे चलाया नहीं जा रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us