पानी अनमोल, इसे बचाएं

Hamirpur Updated Fri, 20 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

फोटो- 19 एचएएमपी 23 कैप्सन- भूजल संरक्षण पर अपने विचार व्यक्त करती शिक्षिका कनिका यादव।
विज्ञापन

राठ(हमीरपुर)। पानी अनमोल है, इसका एक-एक बूंद कीमती है। इसे बचत किए गए धन की तरह ही इस्तेमाल करें। पानी की बर्बादी को रोकें। ये टिप्स भू-जल संरक्षण सप्ताह की एक गोष्ठी में शिक्षिकाओं ने छात्राओं को दी। गोष्ठी का आयोजन राजकीय बालिका इंटर कालेज में किया गया।
भूगोल विषय की शिक्षिका कनिका यादव ने कहा कि जल ही जीवन है। जल को संरक्षित करना होगा। रोजमर्रा की शुरूआत जल से ही होती है। जल से संबंधित विभिन्न समस्याएं हैं जिसमें सबसे बडी समस्या भू जल संरक्षण की है। उन्होंने कहा कि पृथ्वी का 71 फीसदी भाग पानी और 29 फीसदी भाग पृथ्वी है। जलीय भाग का मात्र 3 फीसदी भाग पीने योग्य है। उस तीन फीसदी में से केवल एक फीसदी ही पीने योग्य पानी मिलता है। हमारे यहां पेयजल की प्रमुख समस्या है। उन्हाेंने जल को संरक्षित करने और वनो का कटान रोकने पर जोर दिया। ठीक से बारिश नहीं होने से दिन प्रतिदिन भू-गर्भ का जलस्तर घटता जा रहा है। विद्यालय की प्रधानाचार्या रागिनी पांडेय ने जल संरक्षण और पानी की बर्बादी को रोकने के लिए अपने विचार प्रकट किए। उन्होंने छात्राओं से कहा कि वह पानी का सही इस्तेमाल करें। गोष्ठी में विद्यालय के नवल किशोर शर्मा, कलावती, मोनिका अवस्थी, कलवेंद्र, परतोष कुमारी, पुष्पा बादल, सरोज आर्या, प्रीति वर्मा सहित सभी शिक्षिकाएं मौजूद रहीं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us