खेतों में मेड़बंधी कर बारिश के जल को बचाएं

Hamirpur Updated Thu, 19 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

हमीरपुर। भूगर्भ जल संरक्षण सप्ताह में जिले के कई स्थानों पर विभिन्न प्रतियोगिताएं और रैली निकाली गई। ब्लाक संसाधन केंद्र सुमेरपुर के कुछेछा में परिषदीय एवं प्राइवेट विद्यालय के छात्रों ने भूगर्भ जल संरक्षण जागरूकता रैली निकाली। वहीं विकासखंड कार्यालय में जागरूकता गोष्ठी की गई। इस मौके पर अधिकारियों ने किसानों को भूजल संरक्षण के लिए प्रेरित किया।
विज्ञापन

बुधवार को भूगर्भ संरक्षण विषय पर आयोजित खंड शिक्षा अधिकारी अखिलेश सक्सेना, संकुल प्रभारी रामप्रकाश सविता, एबीआरसी अरुण कुमार, रानीबाथम, विमल सचान व हरीप्रकाश ने भूगर्भ जल संरक्षण के महत्व एवं उपायों के बारे में बताया। इस मौके पर शिवदर्शन, शिवमंगल त्रिपाठी, रावेंद्र सिंग गौर, इश्तियाक, रोहित, राकेश एवं सभी विद्यालयों के अध्यापक व छात्र मौजूद रहे। भरुआसुमेरपुर प्रतिनिधि के अनुसार कसबे के विकासखंड कार्यालय के सभागार में भूजल संरक्षण गोष्ठी में पानी बचाने के लिए लोगों को प्रेरित किया गया। बीडीओ पीएन दीक्षित ने वर्षा के पानी को संरक्षित करने के लिए खेतों में मेड़बंधी के साथ दो मीटर चौड़ी खाई बनाने की सलाह दी। खेत के चारो तरफ खाई बन जाने से एक तो अन्ना पशु खेत पर नही जा सकेंगें। साथ ही बारिश का पानी इस खाई में एकत्र होने पर सिंचाई के काम आएगा। उन्होंने भूगर्भ जल के अत्याधिक दोहन पर गहरी चिंता जताई। भूमि संरक्षण अधिकारी कालिका प्रसाद ने भी भूजल को संरक्षित करने के लिए बारिश के पानी को बहने से रोकने पर विशेष जोर दिया। इस मौके पर पीडी प्रजापति, शिवमंगल त्रिपाठी, सुरेंद्र सिंह, विनोद यादव, एसएन शुक्ला, एसए त्रिवेदी, रामरतन आदि अधिकारी मौजूद रहे। जबकि गोष्ठी में ग्राम प्रधान बलसिंह यादव, विद्याभूषण साहू मौजूद रहे।
घरेलू कार्यों में भी पानी बचाएं, कुओं का उपयोग करें
कुरारा (हमीरपुर)। विकासखंड क्षेत्र के शिवनी गांव में भूगर्भ जल संरक्षण सप्ताह में जल निगम ने गोष्ठी कर ग्रामीणों को पानी बचाने के लिए टिप्स दिए। इस मौके पर जूनि.इंजीनियर एके शर्मा ने कहा कि पुराने जल स्रोताें को चालू रखने के लिए कुओं को मरम्मत कर उनके उपयोग करने की जरूरत है। रोजमर्रा के कार्यों में पानी की बर्बादी रोंके। काम न होने पर नलों की टोंटी बंद कर दें और बर्तनों की धुलाई करते समय पानी बचाएं। उन्होंने पुराने तालाबों के जीर्णोद्धार करने, रिचार्ज पिट का प्रयोग करने पर बल दिया। इस मौके पर नरेश कुमार, बीर सिंह, रामबहादुर मौजूद रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us