भगवान किसी को गरीबी न दे

Hamirpur Updated Tue, 17 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ललपुरा (हमीरपुर)। थानाक्षेत्र के सहुरापुर गांव के पंचायत मित्र के आत्महत्या करने पर उसके परिवारीजनों पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है। विधवा बहन भागवती जो भाई के यहां रहकर जीवन बसर कर रही थी। उसका हाल तो और भी बुरा है। उसके आंखों के आंसू सूख गए और वह हर पल बेहोश हो जाती है। वहीं बूढ़ा बाप कालीचरण भी बेटे को गंवाने के बाद हक्काबक्का सा हो गया है जबकि शादी लायक हो रही उसकी बेटी मनीषा, पूनम भी बदहवास हैं। तीसरी बेटी नीलम के मुंह से यही निकल रहा है कि पापा आ जाएंगे। उसके छोटे छोटे दो बेटे पुष्पेंद्र व नीतेंद्र को चुप कराने के लिए परिवारी जन बांहाें में लपेटे हैं। वहीं पत्नी कमला की हालत विक्षिप्त जैसी थी। बूढ़ा बाप यही कह रहा था कि भगवान किसी को गरीबी न दे और गरीबी दे तो बेटी न दे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us