विज्ञापन

बाढ़ सुरक्षा के लिए मोटर बोट का इंतजाम नहीं

Hamirpur Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। नदियों से घिरे मुख्यालय में बाढ़ सुरक्षा के लिए मोटर बोट का अभाव है। प्रशासन सिर्फ निषादों की निजी नावों के भरोसे सुरक्षा का हवाला दे रहा है। मोटर बोट की उपलब्धता के लिए प्रशासन कई वर्षों से प्रयासरत है, लेकिन दैवी आपदा से खरीदी जाने वाली इन मोटर बोट के लिए बजट का अभाव है। मोटर बोट के लिए लोनिवि (यांत्रिक) ने 17.62 लाख रुपए मांगे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
जिले में प्रशासन के अधीन एक भी मोटर बोट नहीं है। इस मामले में 29 सितंबर 2008 को शासन के अनुसचिव आरएन द्विवेदी से मोटर बोट खरीदे जाने को कहा, लेकिन बजट के अभाव में यह पूरा नहीं हो सका है। 25 जून 2010 को प्रशासन ने दो मोटर बोट मंगाए जाने की आवश्यकता जताई तब लोनिवि की यांत्रिक शाखा ने निर्माता कंपनी से कोटेशन लिया। उस समय इन मोटर बोट की कीमत 12.98 लाख रुपए थी। तबसे मोटर बोट क्रय किए जाने के लिए लोनिवि को बजट नहीं मिल सका है। लोनिवि ने इस मामले में प्रशासनिक अधिकारियों को पत्र भेजा है। कहा कि 10 से 12 व्यक्तियों की क्षमता की फाइवर ग्लास रेन फोस्टर्ड प्लास्टिक टेक्नो कामर्शियल मोटर बोट के मूल्य में वृद्धि हो गई है। अधिशाषी अभियंता झांसी ने इस मामले में पुन: प्रस्ताव भेजा है। शासन को 17.62 लाख की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति तथा धनावंटन पुन: भेजने की बात कही है।
गौरतलब हो कि जिले में 21 सरकारी नाव थी। मौजूदा समय में सभी खराब हो चुकी हैं। फाइबर ग्लास की दो मोटर बोट वर्ष 1984 में शासन ने उपलब्ध कराई थी। वर्तमान में यह जीर्णशीर्ण हालत में हैं। लोनिवि इन मोटर बोट को 24 फरवरी 99 में ही निष्प्रयोज्य बता चुका है।

जिले में नावों की स्थित पर एक नजर

तहसील सरकारी नाव व्यक्तिगत नाव
छोटी मझोली बड़ी
हमीरपुर 10 खराब 79 8 12
मौदहा 6 खराब 8 0 12
राठ 5 खराब 11 0 0
सरीला - 01 11 01

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी देने के बाद इस कदर डर गई थी अंग्रेज सरकार

23 मार्च को हर साल भारत में शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी दी गई थी।

23 मार्च 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree