विज्ञापन

बुंदेलखंड विकास पैकेज के काम में जमकर अनियमितता

Hamirpur Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
मौदहा (हमीरपुर)। बुंदेलखंड विकास पैकेज से कसबे में कराए गए विकास कार्यों में जमकर अनियमितता की गई। वर्ष 2010-11 में 9.28 लाख रुपए से कराए गए कामों का सत्यापन करने वाली टीम ने काम को घटिया बताते हुए जिलाधिकारी से तकनीकी समिति से विस्तृत जांच कराने की सिफारिश की है। भूमि विकास एवं जलसंसाधन विभाग ने उक्त रकम से तालाब घाट, कुएं और जलनिकासी एवं खड़ंजा निर्माण का काम किया था।
विज्ञापन
विज्ञापन
पैकेज से कसबे के तीन कुओं की सफाई, मरम्मत, जलनिकासी व पानी सोखने का गड्ढा व चरही निर्माण कराया गया। कसबे के मोहल्ला हुसैनगंज में हमीद हास्पिटल के कुएं व नेशनल इंटर कालेज परिसर के कुएं की मरम्मत के लिए 1.79 लाख रुपए संबंधित विभाग को दिया गया। इसमें भूमि विकास एवं जलसंसाधन विभाग की मौदहा इकाई ने लिया। दोनों कुओं क ी सफाई के नाम पर खानापूरी हुई। पहले से पक्के बने कुओं में सीमेंट से टीपटॉप कर बड़े अक्षरों में कराए गए कार्यों को दर्शाया गया है।
इन कार्यो के सत्यापन कीजिम्मेदारी तहसील के नायब तहसीलदार जगदीश सिंह पटेल, लघु सिंचाई के जेई अशोक सिंह को जिम्मेदारी दी गई। इन अधिकारियों ने सत्यापन किया। जांच के दौरान पाया कि कसबे के पूर्वी तरौस स्थित कुएं में जलनिकासी के लिए नाली बनाई ही नहीं गई है। साथ ही मिट्टी का पुरवा किया गया। कुएं की मरम्मत में भी निर्धारित धनराशि से बेहद कम खर्च किया गया। निर्माण एजेंसी ने कसबे के तीनों कुओं के अलावा रागौल में नाली खड़ंजा पर 2.58 लाख की धनराशि खर्च की। जबकि सिलौली में पगड़गियन तालाब मेें स्नान घाट, पशु घाट सहित कुओं की मरम्मत के लिए 3.27 लाख रुपए खर्च किए। सत्यापन के दौरान जांच टीम ने इन स्थानों पर कराए गए कार्य बेहद घटिया पाए। नायब तहसीलदार ने बताया कि जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी है। इसमें कहा गया कि कराए गए कार्य गुणवत्ता पूर्ण नहीं है। जिलाधिकारी से तकनीकी जांच कराने की सिफारिश की गई है।
स्थानीय निवासियों में नेशनल कालेज के निकट रहने वाले गेंदालाल ने बताया कि कुएं में मात्र 30 से 35 हजार का कार्य हुआ है। जबकि हुसैनगंज के इदरीश खान व छिद्दू मेजर का कहना है कि इस कुएं में भी 20 से 30 हजार रुपए खर्च किए गए है। जबकि पूर्वी तरौस स्टेशन रोड आरा मशीन के पीछे बने कुएं में मरम्मत, जलनिकासी, मिट्टी का भराव के लिए 1.64 लाख मुहैया कराए गए थे। इस वार्ड के सभासद रहे जलालउद्दीन मुश्की ने बताया कि कुएं की मरम्मत व छोटी सी चरही बनाने में मात्र करीब 30 हजार रुपए खर्च हुए है।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

शादी के बाद यह तीन काम नहीं कर सकते हैं रणवीर

शादी के बाद रणवीर सिंह की सिंबा फिल्म सुपरहिट हो चुकी है। 'गली बॉय' का ट्रेलर आ चुका है, जिसे फैंस बहुत पसंद कर रहे हैं। वहीं अब रणवीर सिंह ने दीपिका को लेकर एक चौंकाने वाला खुलासा किया है

16 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree