विज्ञापन

राजस्व टीम की जांच में जलनिगम की पोल खुली

Hamirpur Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। राठ तहसील क्षेत्र के 54 गांवों के लिए बनाई गई पेयजल समूह योजनाएं ध्वस्त है। जलनिगम इन योजनाओं को चलाने का दावा कर रहा है जबकि राजस्व विभाग ने स्थलीय निरीक्षण के बाद इन योजनाओं की पोल खोली है।
विज्ञापन
जल निगम द्वारा संचालित योजनाओं का बुरा हाल है। दैवीय आपदा, सूखा एवं पेयजल की बैठकों में जहां जल निगम ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित पेयजल योजनाओं के चलने का दावा कर प्रशासन को बरगलाया जा रहा था। इस पर जिलाधिकारी ने इन पेयजल योजनाओं के स्थलीय निरीक्षण के लिए राजस्व विभाग का सहारा लिया और राठ क्षेत्र की पेयजल योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण कराया। जिस पर तहसीलदार राठ ने इन योजनाओं की वास्तविक स्थिति को बताते हुए डीएम को अवगत कराया। जिसमें उन्होंने बताया कि टूका ग्राम में टंकी बनी है लेकिन पाइप लाइन ध्वस्त है। झिन्नाबीरा में टंकी बनी है लेकिन गांव में पाइप लाइन नहीं डाली गई। गिरवर गांव में टंकी निर्मित होने के बावजूद पाइप लाइन ध्वस्त पड़ी है। इसी तरह सरगांव में पाइप लाइन ध्वस्त है, करगवां में टंकी की हालत जीर्ण शीर्ण है। आधे गांव को पानी मिल रहा है। जिगनी बगरा पेयजल परियोजना से सिर्फ बगरा में जलापूर्ति हो रही है। जबकि इससे जुड़े गांव नहदौरा, उजनेह, धगवां में की पाइप लाइन ध्वस्त होने से 6 माह से आपूर्ति नहीं हो रही है। गल्हिया पेयजल योजना से सिर्फ गांव में सप्लाई हो रही है। जबकि मवई व औडेरा में सप्लाई हो रही है। लेकिन कोई भी कनेक्शन नही है। रोरौ पेयजल योजना में पाइप लाइन में लीकेज होने से एक वर्ष से सप्लाई नही दी जा रही है। गोहानी राठ पेयजल योजना में पाइप लाइन में कई जगह लीकेज होने व ध्वस्त होने के चलते 6 माह से बंद है। तहसीलदार राठ ने रिपोर्ट में बताया कि नौरंगा पेयजल योजना से ही आपूर्ति हो रही है। तहसीलदार की इस रिपोर्ट से इस बात का खुलासा होता है कि जल निगम के पेयजल के लिए किए जा रहे दावे सिर्फ कागजी है। हकीकत में लोगों को अभी भी पानी के लिए जूझना पड़ रहा है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

दिल्ली में कराई जा सकती है कृत्रिम बारिश समेत इन खबरों पर बुधवार को रहेगी नजर

साल 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले के आरोपियों में से एक लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित की याचिका पर बुधवार को सुनवाई होगी और अमित शाह 21 नवंबर को जयपुर में युवाओं से संवाद करेंगे, समेत और भी बड़ी खबरों पर रहेगी नजर।

20 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree