विज्ञापन

एचटी लाइन का करंट लगने से अधेड़ की मौत

Hamirpur Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
राठ(हमीरपुर)। सोमवार को खंभे से केबिल निकालने के दौरान हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से एक अधेड़ झुलस गया। इलाज के लिए सैफई ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
विज्ञापन
अतरौलिया गंाव टीला में खंभे में लगी डीपी खराब होने से दस दिन से बिजली नहीं आ रही थी। सोमवार की सुबह करीब सात बजे लोक निर्माण विभाग का अस्थायी कर्मचारी गनेशी लाल (50) पुत्र बालादीन अनुरागी डीपी वाले खंभे में चढ़कर अपनी केबिल को निकालने लगा। तभी उसका हाईटेंशन लाइन से छू जाने पर वह करंट की चपेट में आ गया और खंभे से नीचे गिर गया। करंट लगने से वह गंभीर रूप से झुलस गया। उसके गिरते ही लोग उसे आनन-फानन अस्पताल ले गए। अस्पताल में उसकी नाजुक हालत को देखते हुए डाक्टरों ने सैफई ले जाने को कहा। सैफई ले जाते समय उरई के पास उसकी मौत हो गई। मृतक के भाई नंदराम और ग्रामीणों ने बताया कि डीपी खराब होने से मोहल्ले के लोग अपनी केबिल निकालकर अन्य जगह जोड़ ली थी। उसका भाई भी केबिल निकालने गया था।


कर्मचारी डीपी बदल देते तो हादसा न होता
राठ(हमीरपुर)। हाईटेंशन लाइन के करंट से अधेड़ की मौत को लेकर अतरौलिया गांव के लोगों में पावर कारपोरेशन के खिलाफ आक्रोश है। गांव के बृजकिशोर, नारायनदास, प्रमोद, किशन, रामजीवन, हल्कीबाई, हंसराज, छविलाल प्रजापति, लल्लू प्रसाद गुप्ता, करन सिंह, जनक कुमार ने बताया कि अतरौलिया टीला में दस दिन से डीपी खराब है। पावर कारपोरेशन के अफसरों को 30 जून को शिकायत की गई थी। उन्हाेंने अफसरों से डीपी बदलने की मांग की थी लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। यदि समय रहते खंभे की डीपी बदल जाती तो यह हादसा नहीं होता।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

VIDEO: पश्चिम बंगाल में बीजेपी के बंद के दौरान हिंसा, बसों में तोड़ाफोड़

पश्चिम बंगाल में बीजेपी द्वारा बुलाए गए भारत बंद में हिंसा देखने को मिल रही है। कई जगहों पर बसों के शीशे तोड़े जाने और ट्रेनों के रोके जाने की खबर सामने आई है। देखिए ये रिपोर्ट।

26 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree