विज्ञापन

पांच वर्ष में 94 गांव चमकेंगे

Hamirpur Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। डा.राममनोहर लोहिया समग्र ग्राम के नाम से गांवों का विकास कराया जाएगा। सपा के पांच वर्ष के शासनकाल में जिले के 94 गांव लोहिया ग्राम से जाने जाएंगे। जबकि अगले चार वर्षों में 20-20 गांवों का चयन होगा। चालू वर्ष 2012-13 में 16 फीसदी यानी 14 गांवों को डा.लोहिया ग्राम विकास योजना में शामिल किया जाएगा। शासन से आए निर्देशों पर एक सप्ताह के अंदर इन गांवों का चयन होना है। चयनित गांवों में देखा जाएगा कि संबंधित गांव में सबसे पिछड़ा हो।
विज्ञापन
पिछली बसपा सरकार में दलित बाहुल्य बस्तियों को अंबेडकर गांव के रूप में चयनित किया गया। इन गांवों में सर्वाधिक विकास कार्य दलित बस्तियों तक सीमित रहे। जबकि सामान्य व पिछड़े वर्ग की बस्तियों को विकास से अछूता रखा गया। माया सरकार जाने के बाद शासन ने डा.अंबेडकर ग्राम विकास योजना खत्म कर दी है। इसके स्थान पर डा.राममनोहर लोहिया समग्र ग्राम विकास योजना संचालित की है। इस योजना का लाभ ऐसे गांवों को दिया जाएगा, जिन पर विकास कार्यों की जरूरत है। जो गांव संपर्क मार्ग से नहीं जुड़े है। विद्युतीकरण नहीं कराया गया है। प्राथमिक/उच्च प्राथमिक स्कूल भवन नहीं है। आंतरिक विकास में नाली खड़ंजा का अभाव है। स्वच्छ शौचालय व पंचायत भवन की कमी है। इसी तरह गांव में अन्य कई बुनियादी सुविधाएं नहीं है। उन्हीं गांवों का सर्वे किया जाना है। जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी जितेंद्र अमरनानी ने बताया कि शासन के भेजे पत्र में अगले पांच वर्ष में जिले के 94 गांवों को डा.राममनोहर लोहिया समग्र ग्राम विकास योजना से चयनित किया जाएगा। चालू वर्ष में 14 गांव चयनित किए जाने है। जबकि अन्य चार वर्षो में 20-20 गांवों का चयन कर विकास कार्य कराया जाएगा। शासन से आए निर्देशों के अनुपालन में सर्वे कार्य शुरू कर दिया गया है। इस कार्य में लोनिवि, पंचायत, जलनिगम, विद्युत, बेसिक शिक्षा व ग्राम विकास विभागों से सर्वे कार्य कराया जा रहा है। कहा कि अगले सप्ताह तक सर्वे रिपोर्ट मांगी गई है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: मुरैना का एक गांव ऐसा भी

मध्य प्रदेश के मुरैना का एक गांव ऐसा भी है जहां सरकारी योजनाएं सिर्फ कागजों पर हैं क्योंकि यहां ना तो शिक्षा की व्यवस्था है और ना ही किसानों के लिए कोई सुविधा। इस गांव को मुरैना का सबसे बदहाल गांव कह लें तो भी बेमानी नहीं होगी।

21 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree