मानसून एक्सप्रेस के लेट होने से किसान चिंतित

Hamirpur Updated Thu, 28 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। मानसून एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय विलंब चल रही है। मानसून एक्सप्रेस का इंतजार करते हुए किसान थक गया है। उसके माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ गई हैं। बारिश न होने से खरीफ की फसल की बुआई पिछड़ रही है। दूसरी ओर जिले में जलस्तर गिरने से पानी का संकट बढ़ता ही जा रहा है। पिछले साल जून में 367 एमएम बारिश हो चुकी थी।
मौसम विज्ञानियों ने समय से मानसून आने की घोषणा की थी। इसके बाद 15 जून तक मानसून न आने पर 22 जून तक प्रदेश में पहुंचने की संभावना जताई गई लेकिन अभी तक बारिश नहीं हुई। शाम सुबह तेज हवा के चलने पर आसमान से बादल साफ हो जाते हैं और रात में आसमान में तारे चमकने लगते हैं। दिन में तापमान बढ़ने के चलते एक बार गर्मी बढ़ गई है। किसानों का कहना है कि समय से बारिश नही हुई तो खरीफ की फसल पिछड़ जाएगी। गौरतलब हो कि बीते वर्ष जून में 367.36 एमएम बारिश हो चुकी थी। जो विगत 10 वर्षों की जून में रिकार्ड बारिश है। जिससे खरीफ की फसल समय से बोई गई। साथ ही जल स्तर उठने से पेयजल समस्या भी सामान्य हो गई थी।
नौ वर्षों के दौरान जून में औसत वर्षा का विवरण
वर्ष जून में वर्षा
2003 58.80
2004 59.40
2005 102.44
2006 49.50
2007 58.19
2008 363.36
2009 13.32
2010 17.78
2011 367.36

Spotlight

Related Videos

इलाज के बदले मिली मौत

झोलाछाप डॉक्टर ने इलाज के नाम पर युवक की जान ले ली। युवक पेशे से मजदूर था। तबियत बिगड़ने पर झोलाछाप डॉक्टर ने युवक को चार इंजेक्शन लगाए। जिसके बाद युवक की मौत हो गई।

25 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen