विज्ञापन

3 एकड़ जोत के ही किसानों को कर्ज माफी का लाभ

Hamirpur Updated Thu, 28 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। सिर्फ उप्र सहकारी ग्राम विकास बैंक से कर्ज लेने वाले किसानों को ही कर्ज माफी का फायदा मिलेगा। वह भी इस बैंक से ऋण लेने वाले ऐसे किसान जिनके पास 3.125 एकड़ से कम जमीन है, उनका ही 50 हजार रुपया कर्ज माफ किया जाएगा। इस बैंक से कर्ज लेने वाले किसानों की संख्या 5520 है जिन्हें 673.17 लाख रुपए का कर्ज दिया गया है।
विज्ञापन
बैंकों से कर्ज लेने वाले अधिकतर किसान अपनी बकाएदारी जमा नहीं कर रहे है। किसान 50 हजार का कर्ज माफ की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं। मगर प्रदेश सरकार सभी किसानों के कर्जमाफी करने की स्थित में नहीं है। जिन 500 करोड़ रुपए कर्ज माफी की घोषणा हुई है। उस धन से अकेले सहकारी ग्राम विकास बैंक से लोन लेने वाले सभी किसानों को लाभ नहीं मिलेगा। प्रदेश में इसी बैंक को करीब 12 करोड़ की दरकार है। ऐसे में कर्जमाफी का इंतजार करने वाले आधे किसानों का भी भला नहीं हो सकेगा। जिले की तीनों भूमि विकास बैंकों से कर्ज लेने वाले किसानों की संख्या 5520 है। इसमें सदर तहसील की सहकारी भूमि विकास बैंक के 1293 किसान बकाएदार है। जिनसे 191.14 लाख वसूला जाना है। इसी तरह मौदहा में 969 किसानों से बैंक को 134.58 लाख वसूला जाना है। जबकि राठ भूमि विकास बैंक शाखा से संबंधित 3258 किसानों से 347.45 लाख की वसूली होनी है। फिलहाल इन्हीं किसानों में जिनकी जोत 3.125 एकड़ से कम है और जमीन बैंक में बंधक है। साथ ही 50 हजार तक का कर्ज है। उसे ही कर्जमाफी का लाभ मिलेगा।
50 हजार से अधिक के बकाएदारों पर वसूली का दबाव
हमीरपुर। उप्र सहकारी विकास बैंक के नोडल अधिकारी/शाखा प्रबंधक बनवारीलाल ने बताया कि प्रबंध निदेशक रामजतन यादव ने पत्र में कहा है कि सहकारी वर्ष 2011-12 के समाप्त होने में अब कुछ ही अवधि शेष है। इसके बावजूद बैंक वसूली में सुधार नहीं हो रहा है। चालू मांग की वसूली हर दशा में 30 जून तक शत प्रतिशत होनी है। 50 हजार से ऊपर के बकाएदारों से वसूली एवं ऐसे बकाएदार जिनकी भू-जोत 3.125 एकड़ से अधिक है, वे ऋण माफी योजना में विचाराधीन नहीं है ऐसे में बकाएदारों से वसूली में शिथिलिता न बरती जाए। उन्होंने बताया कि 50 हजार रुपए से अधिक के बकाएदारों से वसूली के प्रयास तेज किए है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के लिए क्यों अहम है राघौगढ़ सीट ?

मध्यप्रदेश का राघौगढ़ गुना जिले के अंतर्गत आता है। यह सीट राजगढ़ लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आती है। इसे कांग्रेस की पक्की सीट माना जाता है, जहां कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और उनके परिवार का एकछत्र राज रहा है।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree