'My Result Plus

मिशन एडमीशन की राहें नहीं होंगी आसान

Hamirpur Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। इंटर के नतीजे आने के बाद डिग्री कालेजों में मिशन एडमीशन की राहें आसान नहीं है। कई कालेजों में फार्म बंट चुके है जबकि कुछ कालेजों में प्रक्रिया जारी है। इंटरमीडिएट का रिजल्ट बेहतरीन होने से छात्रों में मैरिट हाई होने की चिंता सताने लगी है। कालेजों के प्राचार्य कह रहे है कि सीटों को देखते हुए इस बार मिशन एडमीशन आसान नहीं होगा।
जिले में 95 प्रतिशत रिजल्ट छात्राओं का रहा है जबकि 84 फीसदी छात्रों ने इंटर परीक्षा पास की है। देखा जाए तो राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हमीरपुर और राजकीय महिला महाविद्यालय में छात्रों की संख्या को देखते हुए सीटों की संख्या बेहद कम है। मैरिट के आधार पर ही छात्रों का प्रवेश होना है। ऐसे में इंटर पास करने वाले छात्र कहां एडमीशन लेंगे इसको लेकर उनकी चिंताएं बढ़ गई है। राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य डा.प्रमोद कुमार अग्रवाल का कहना है कि प्राइवेट कालेजों में सीटें हर साल बढ़ा दी जाती है लेकिन गवर्नमेंट कालेजों में सीटों के बढ़ने के स्थान पर कम की जा रहीं है। कहा कि कालेज में बीक ॉम की मान्यता समाप्त कर दी गई। 30 जून तक छात्रों से आवेदन मांगे है। कमोवेश यही बात राजकीय महिला महाविद्यालय के प्राचार्य डा.राजकुमार कहते है। बताया कि 2 जून तक छात्राओं से आवेदन मांगे है। अखबार में पढ़ा है कि इस बार 25 प्रतिशत सीटें बढ़ेंगी। कहा कि छात्राओं का प्रवेश मैरिट के आधार पर किया जाएगा। अभिनव प्रज्ञा महाविद्यालय निवादा के प्राचार्य डा.एसके सिंह 20 जुलाई तक आवेदन मांगे है। कहा कि प्रवेश की कोई समस्या नहीं आएगी।

राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर
सीटों की संख्या
बीए 320
बीएससी 120
एमए राजनीतिशास्त्र 60
हिंदी 60
अर्थशास्त्र 60

राजकीय महिला महाविद्यालय हमीरपुर
सीटों की संख्या
बीए 240

अभिनव प्रज्ञा महाविद्यालय निवादा
सीटों की संख्या
बीए 600
बीएससी 240
बीकॉम 300

अभिनव प्रज्ञा महाविद्यालय सरीला
सीटों की संख्या
बीए 350

श्रीस्वामी नागाजी बालिका डिग्री कालेज सुमेरपुर
सीटों की संख्या
बीए 256

Spotlight

Related Videos

आग की चपेट में आया गेहूं का खेत, जल गई इतने बिघा फसल

मेरठ के सरधना में कालंद चुंगी के पास नगर पालिका की लापरवाही से कूड़े के ढेर में आग लग गई। आग ने देखते ही देखते पास वाले गेहूं के खेत को अपनी जद में ले लिया और करीब पांच बिघा गेहूं की फसल को जलाकर राख कर दिया।

20 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen