विज्ञापन

पीसीएफ के दो अफसरों को बर्खास्त करने की संस्तुति

Hamirpur Updated Tue, 19 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। गेहूं खरीद में पीसीएफ के रीजनल मैनेजर व जिला प्रबंधक द्वारा क्रय केंद्र प्रभारियाें पर दबाव बनाकर मनमानी तरीके से खरीद कराने के आरोप सही मिलने पर डीएम ने इन दोनों अफसरों को तत्काल प्रभाव से शासकीय सेवा से बर्खास्त करने की शासन से संस्तुति की है।
विज्ञापन

जिले में गेहूं खरीद के लिए 27 केंद्र हैं। जिसमें 15 केंद्र पीसीएफ के है। पीसीएफ केंद्रों की खरीद में गड़बड़ी किए जाने की शिकायतें डीएम से की गई है। इस पर उन्होंने पीसीएफ क्रय केंद्र छानी का 14 जून को औचक निरीक्षण किया। जिस पर अनियमितता पाए जाने पर अपर जिलाधिकारी एचजीएस पुंडीर व तहसीलदार रंजीत कुमार से जांच कराई गई। जिस पर पाया कि उच्च अधिकारियाें के नाम पर 80-100 रुपए कुंतल कमीशन किसानों से वसूला जा रहा है। यहां क्रय केंद्र प्रभारी शिव सिंह ने बताया कि उच्च अधिकारियों के दबाव के चलते केंद्र पर ठेकेदार व उसके द्वारा नियुक्त एक व्यक्ति द्वारा खरीद की जा रही है। उसे सिर्फ सिक्स आर काटने के लिए रखा गया है। किसानों के बयान लेने के बाद यह स्पष्ट हुआ कि जिला प्रबंधक एके पाठक व रीजनल मैनेजर बीके सिंह द्वारा केंद्र प्रभारियों पर दबाव बनाकर कार्य कराया जा रहा है। इस पर केंद्र प्रभारी की तहरीर पर ठेकेदार जितेंद्र द्विवेदी, विनोद कुमार शिवहरे, जिला प्रबंधक एके पाठक, रीजनल मैनेजर बीके सिंह के खिलाफ 15 जून को थाने में मुकदमा पंजीकृत किया गया।
जिलाधिकारी ने बताया कि तहसीलदार व अपर जिलाधिकारी की जांच आख्या व बयानों से स्पष्ट है कि पीसीएफ के आरएम व जिला प्रबंधक अवैध वसूली करने तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर गेहूं खरीद कार्य कराने के दोषी हैं। इस पर उन्होंने दोनों अधिकारियों के खिलाफ शासन को पत्र लिखकर शासकीय सेवा से बर्खास्त करने की संस्तुति की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us