हर्ष फायरिंग में एक की मौत दुल्हन समेत चार घायल

Hamirpur Updated Fri, 15 Jun 2012 12:00 PM IST
पहाड़ी/ राजापुर(चित्रकूट)/मौदहा (हमीरपुर)। हर्ष फायरिंग की दो घटनाओं में एक युवक की मौत हो गई जबकि दुल्हन समेत चार लोग घायल हो गए। इस मामले में पुलिस ने पीएसी के एक जवान समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है।
बुधवार को चित्रकूट के पहाड़ी के परसौंजा से मुन्नीलाल के पुत्र छोटेलाल की बारात शाम को राजापुर के बकटा खुर्द के मजरा अमवां बढ़ता में राममगन के घर गई थी। द्वारपूजा के बाद ही गांव के साधोराम उर्फ ग्रामसेवक ने अपनी लाइसेंसी दुनाली बंदूक से फायरिंग शुरू कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक उसके बगल में ही पूर्व प्रधान चौबा खटिक का पुत्र निर्भय (30) बैठा था। बताते हैं कि किसी का धक्का लगने पर बंदूक की नाल घूम गई और उससे निकली गोली से निर्भय का भेजा उड़ गया। निर्भय की मौके पर ही मौत हो गई। प्रभारी थाना इंचार्ज राजापुर एमए खान ने बताया कि हर्ष फायरिंग के दौरान चली गोली से एक व्यक्ति की मौत हो गई। मौके से ही गोली चलाने वाले साधोराम को गिरफ्तार कर लिया गया है।
उधर दूसरी घटना में मौदहा (हमीरपुर) में बुधवार की रात स्थानीय कोतवाली के करहिया गांव में जयकरन उर्फ बैजू की बेटी रीता की शादी थी। बारात सुमेरपुर कसबे के अमिलिया मोहल्ला से आई थी। जयमाल के दौरान हर्ष फायरिंग शुरु हो गई। हर्ष फायरिंग में दुल्हन रीता को गोली के छर्रे लगने के साथ ही बारात की तरफ से आए वीडीओग्राफर विनोद, फोटोग्राफर निर्मल कुमार, विजय घायल हो गए। शादी में भगदड़ मच गई। बाजे और शहनाई ठप हो गई। मातम छा गया। दुल्हन सहित सभी घायलों को कसबे के सरकारी अस्पताल लाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद एंबुलेंस उपलब्ध न होने पर कोतवाल संतलाल ने निजी गाड़ी से सदर अस्पताल भिजवाया। दुल्हन के भाई रामबदन यादव ने कोतवाली में दर्ज कराई रिपोर्ट में कहा है कि जयमाल के दूल्हे हेंमत कुमार के बहनोई और पीएसी झांसी में तैनात करन सिंह तथा कानपुर में पीएसी में तैनात सिपाही रामस्वरुप उर्फ सरबन ने शराब के नशे में हर्ष फायरिंग कर दी जिससे उसकी बहन सहित अन्य तीन लोग घायल हो गए। कोतवाल ने बताया कि इस घटना के एक आरोपी सिपाही करन सिंह को गिरफ्तार कर दो बंदूकें बरामद की हैं। दूसरे की तलाश की जा रही है। घायलों का इलाज हमीरपुर में चल रहा है।

Spotlight

Related Videos

EXCLUSIVE :कुलदीप नैयर ने बताया, इमरजेंसी लगाने के पीछे संजय गांधी का था ये खतरनाक इरादा

कुलदीप नैयर अपनी कलम की ताकत से सत्ता में बैठे लोगों की आँखों की किरकिरी बने रहे। इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगाया तो इन्हें जेल में डाल दिया। अमर उजाला टीवी ने कुलदीप नैयर से आपातकाल के साथ-साथ कई मुद्दों पर बातचीत की।

25 जून 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen