विज्ञापन

350 हैंडपंपों में आधे हुए रिबोर

Hamirpur Updated Tue, 12 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। जिले में भरपूर पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 350 हैंडपंपों का रिबोर होना था लेकिन सिर्फ आधे हैंडपंप ही रिबोर हुए हैं। तपती गर्मी में लोगों को अभी पेयजल समस्या से जूझना पड़ रहा है। रिबोर के लिए 31 जुलाई तक समय बढ़ाया गया है।
विज्ञापन
जिले के ग्रामीण क्षेत्रो में पेयजल के लिए 17172 हैंडपंप लगाए गए है। मौजूदा समय में 15880 हैंडपंप चालू हालत में है जबकि 1292 हैंडपंप स्थायी रूप से खराब हो चुके है। इन खराब हैंडपंपों में 350 का रिबोर होना है। इसके लिए जिला प्रशासन ने संबंधित कार्यदाई संस्थाओं को 30 जून तक की मोहलत थी। लेकिन अभी तक इन 350 हैंडपंपों में सिर्फ 157 हैँडपंप रिबोर हुए हैं। जल निगम के सहायक अभियंता आरएस विश्वकर्मा ने बताया कि हैंडपंपों के रिबोर के लिए 31 जुलाई तक का समय मिल गया है। रिबोर करने वाली टीमों की संख्या बढ़ाई गई है।
दो महीने में सिर्फ 42 हैंडपंपों के पानी जांच
हमीरपुर। नए हैंडपंपाें के पानी की जांच के लिए जिले में दो लेबोट्रीज काम कर रही है लेकिन इसमें एक लेबोट्रीज ने अप्रैल में 42 हैंडपंपों के पानी की जांच की। जांच में पानी दुरुस्त निकला। इसके बाद लगाए गए नए हैंडपंप व रिबोर हैंडपंपाें के पानी की जांच के लिए नमूने नहीं लिए गए। इस वजह से इन हैंडपंपों के पानी की गुणवत्ता का पता नहीं चल सका। सहायक अभियंता आर एस विश्वकर्मा ने बताया कि अप्रैल में जिन 42 हैंडपंपों के पानी की गुणवत्ता की जांच की गई। उनमें मुस्करा, मौदहा व गोहंाड के 14-14 हैंडपंप है। पानी की गुणवत्ता में टीडीएस, पीएच, फ्लोराइड, क्लोराइड, आयरन, नाइट्रेट, नाइट्राइट, संपूर्ण कठोरता, सल्फेट, एल्केनिटी व अवशेष क्लोरीन की जांच की गई है। इन हैंडपंपों का जल मानक के मुताबिक है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

अमृतसर रेल हादसा: सिद्धू ने कहा- लाश पर राजनीति कर रही है बीजेपी

अमृतसर रेल हादसे पर पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बयान दिया है। सिद्धू ने हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार बताया है। सुनिए सिद्धू ने क्या कहा।

23 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree