खुले में रखे गेहूं पर मानसून का खतरा बढ़ा

Hamirpur Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। गेहूं खरीद केंद्रो से गेहूं की उठान न होने से बारिश से भीगने के आसार बढ़ गए हैं। बारिश का सीजन सिर पर आ गया है। बदली छाने व बूंदाबांदी होने से केंद्र प्रभारियों की जान सांसत में है। जिले में अभी 8161 मीट्रिक टन गेहूं की उठान होनी है।
जिले में गेहूं खरीद का लक्ष्य पूरा होने के करीब है। 35 हजार एमटी लक्ष्य के मुकाबले 34 828.53 एमटी की खरीद हो चुकी है। खरीदे गए गेहूं में से 26 667 एमटी गेहूं की डिलेवरी हो चुकी है। इसके चलते गेहूं खरीद मात्र एक हजार मीट्रिक टन पीछे है। इस सबके बावजूद गेहूं खरीद केंद्रों पर किसानों के गेहूं के ढेर पड़े है। जिसको लेकर किसान उच्चाधिकारियों से शिकायत कर गेहूं तुलाई की मांग कर रहे हैं। वहीं बारदाना के अभाव में केंद्र प्रभारी गेहूं खरीद नहीं हो रही है। कुछ केंद्रों में डीएम के निर्देश पर किसानों ने अपना गेहूं पुरानी बोरियों में तौलकर खुले आसमान के नीचे रखवा दिया है। इन किसानों के गेहूं को नई बोरियां आने के बाद ही निस्तारण हो सकेगा। दोनोें ही गेहूं को सुरक्षित करने के लिए परेशान है। वहीं उच्चाधिकारी भी गेहूं के भंडारण को लेकर एफसीआई के अधिकारियों को मंडी समितियों में नीलामी चबूतरों को आवंटित कर रखवाया जा रहा है। चबूतरों के भरने के बाद शेष गेहूं की बोरियों को मंडी समितियों की सड़कों पर क्रेट लगाकर भंडारण किया जाएगा। अपर जिलाधिकारी एचजीएस पुंडीर ने बताया कि 100 गांठे अगले दो दिन में आने की उम्मीद है। उन्होंने डंप गेहूं की डिलेवरी के लिए संबंधित एजेंसियों को ट्रकों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए है।

Spotlight

Related Videos

वीडियो : प्रियंका चोपड़ा को मिली देश छोड़ने की ‘धमकी’!

प्रियंका चोपड़ा ने रोहिंग्या मुस्लिमों से बांग्लादेश के कैम्प में मुलाकात की। प्रियंका के इस दौरे पर बीजेपी के फायरब्रांड नेता विनय कटियार भड़क गए। विनय कटियार ने कहा कि जो लोग रोहिंग्या का समर्थन कर रहे हैं उन्हें देश छोड़ देना चाहिए।

24 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं।आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते है हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen