विज्ञापन

शिविर में 62 रोगी मोतियाबिंद के निकले

Hamirpur Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
राठ(हमीरपुर)। अंबेडकर चौराहा के नजदीक स्वर्णकार धर्मशाला में बुधवार को लायंस क्लब राठ विराट के नेत्र शिविर में सदगुरु नेत्र चिकित्सालय जानकी कुंड चित्रकूट से आए डाक्टरों ने 238 रोगियों की आंखों का परीक्षण किया। परीक्षण में 60 रोगी मोतियाबिंद मिले। इनमें से 45 मरीजों को आपरेशन के लिए चित्रकूट ले जाया गया। बुधवार सुबह करीब 9 बजे से शिविर में नेत्र रोगियों की भारी भीड़ रही। रोगियों के रजिस्ट्रेशन के बाद नेत्र चिकित्सक डा. अशोक, दिनेश कुमार मिश्रा, रजनीश विजन, मनोज कुमार की टीम ने रोगियों की आंखों का परीक्षण कर उन्हें दवाएं दी। शिविर में ज्यादातर सिर दर्द व दूर दृष्टि रोग के मरीज निकले। सीओ एमपी सिंह ने सदगुरु नेत्र चिकित्सालय के संस्थापक स्वामी रणछोड़ महाराज के चित्र पर माल्यार्पण कर शिविर का शुभारंभ किया। इस मौके पर क्लब के कार्यक्रम चेयरमैन अशोक सक्सेना, सैय्यद शाहिद अली, अध्यक्ष गिरीश शरण बुधौलिया, सचिव शिवनारायन खरे, आदर्श कोहली, सुरेश महेश्वरी, रामनारायन सोनी, रामनरेश गुप्ता और स्वर्णकार धर्मशाला के अध्यक्ष बृजभूषण सर्राफ उर्फ दाऊ मौजूद रहे।
विज्ञापन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

21 नवंबर 1962 को हुआ था भारत चीन युद्धविराम

1962 में आज ही के दिन भारत और चीन के बीच युद्धविराम की घोषणा हुई थी। 1962 का युद्ध भारतीय सेना बुरी तरह से हार गई थी और नेहरू के राजनीतिक पतन की शुरूआत भी तभी से हुई।

21 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree