दिखा सूर्य पर शुक्र का साया

Hamirpur Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। शुक्र पारगमन की अद्भुत खगोलीय घटना का नजारा जिले में बुधवार को हजारों आंखाें ने देखा। मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में जिला विज्ञान क्लब की मदद से लोगों ने यह नजारा देखा।
बुधवार को सुबह 5.25 बजे से आकाश में अद्भुत खगोलीय घटना की शुरूआत हुई। जिसमें शुक्र ग्रह, पृथ्वी व सूर्य एक सामने आने से शुक्र ग्रहण का नजारा देखने को मिला। घटना में शुक्र सूर्य पर एक काली बिंदी के रूप में दिखाई दिया। जिससे मुख्यालय सहित कसबों व ग्रामीण क्षेत्रों में हजाराें लोगों ने इस अद्भुत खगोलीय नजारे को देखा। जिला विज्ञान क्लब के प्रभारी एम हबीब खान ने बताया कि शुक्र ग्रह आकाश का सबसे चमकदार ग्रह है। शुक्र एक झलक में आकार, भार व संरचना में पृथ्वी जैसा दिखता है। इस ग्रह का तापमान करीब 450 सेंटीग्रेड के आसपास है। यह नजारा कई वर्षों बाद देखने को मिलता है। पिछला नजारा 8 जून 2004 को देखने को मिला था। जबकि आगामी शुक्र पारगमन की घटना 105 साल बाद 11 दिसंबर 2117 को देखने को मिलेगा। डा.जीके द्विवेदी ने बताया कि शुक्र की सूर्य से औसत दूरी 10.82 करोड़ किमी है। शुक्र का भार पृथ्वी के भार का 0.82 गुना है और व्यास 12 हजार सौ किमी है। उन्होंने बताया कि इस अद्भुुत घटना को मुख्यालय के अवतार मेहेर बाबा स्कूल परिसर, जिला चिकित्सालय, कल्पवृक्ष, बस स्टैंड, राजकीय महाविद्यालय, कालपी चौराहा आदि स्थानों पर चश्मे बंाटकर लोगों को दिखलाया गया। वहीं एम हबीब खान ने बताया कि इस अद्भुत नजारे को सुमेरपुर कसबे में चांद थोक, इमिलिया, विकासखंड कार्यालय, नेहा नर्सिंग होम, बस स्टैंड सहित मौदहा, मुस्करा, राठ, गोहांड, सरीला व कुरारा, जरिया, ललपुरा तथा बिंवार के लोगों ने भी इस नजारे का मजा लिया। कुरारा में समर्थ फाउंडेशन के देवेंद्र गांधी ने लोगों को अद्भुत नजारा दिखाया।

Spotlight

Related Videos

देखिए भारत और कनाडा के बीच क्या-क्या समझौते हुए

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के भारत यात्रा के छठे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी मुलाकात हुई। इस मुलाकात के बाद दोनों राष्ट्राध्यक्षों ने हैदराबाद भवन में साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। देखिए दोनों देशों के बीच क्या-क्या समझौते हुए।

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen