विज्ञापन

पीसीएफ केंद्र बंद होने से बढ़ी दुश्वारियां

Hamirpur Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। सुमेरपुर विकासखंड क्षेत्र के सुरौली, पचखुरा व मुंडेरा के किसानों ने गेहूं खरीद न होने पर डीएम को ज्ञापन दिया है। किसानाें ने पीसीएफ केंद्र में खरीद कराने की मांग की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
किसान उपेंद्र कुमार, बरदानी, श्रीपाल, बलवान सिंह ने डीएम से बताया कि सुमेरपुर मंडी समिति में संचालित गेहूं खरीद केंद्र पीसीएफ में उनका गेहूं 18 मई से पड़ा है। लेकिन बारदाना का अभाव बताकर खरीद नहीं की जा रही है। साथ ही पीसीएफ केंद्र को बंद किया जा रहा है। किसानों ने मांग की है कि केंद्र में गेहूं खरीद का कार्य फिर से शुरू कराया जाए। नहीं तो वह लोग 8 जून से आमरण अनशन करने को बाध्य हाेंगे।
गेहूं खरीद से हटाए ड्यूटी
हमीरपुर। उप्र लेखपाल संघ ने समस्याओं को लेकर तहसील सभागार में बैठक कर गेहूं खरीद से ड्यूटी हटाने, जीपीएफ की वार्षिक लेखा पर्ची मुहैया कराने सहित अन्य मांगों को रखा।
स्थानीय तहसील सभागार में उप्र लेखपाल संघ की बैठक तहसील अध्यक्ष जितेंद्र सिंह की अध्यक्षता में हुई। उन्होंने कहा कि कार्य की व्यस्तता से लेखपालों की ड्यूटी गेहूं खरीद केंद्राें से हटाई जाए। शासनादेश 2011 के क्रम में संशोधित पुनरीक्षित वेतनमान का बकाया दिलाने, एक मई 2012 को जारी शासनादेश के अनुसार वेतनवृद्धि का लाभ दिलाने, जीपीएफ की वार्षिक लेखापर्ची मुहैया कराने सहित पत्यौरा लेखपाल रामकुमार सोनी के मामले को उठाया है। इस मौके पर रामकुमार सोनी, प्रदीप कुमार तिवारी, बीरेंद्र कुशवाहा, जगदीश बाबू, जगदेव प्रसाद, रमेश निषाद, अवध बिहारी सहित अन्य लेखपाल मौजूद रहे। संचालन सुनील कुमार विश्वकर्मा ने किया।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

दावा है कभी नहीं देखी होगी सतरंगी चाय !

भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश में एक खास चाय मिलती है, जो सतरंगी यानी इंद्रधनुष के रंग की है। रंग बिरंगी दिखने वाली इस चाय में सिर्फ रंगों का खेल ही नहीं है बल्कि हर रंग में अलग स्वाद है।

17 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree