कुतुबपुर में पानी के लिए मारामारी, 14 हैंडपंप बंद

Hamirpur Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
कुरारा (हमीरपुर)। विकासखंड क्षेत्र के कुतुबपुर गांव के 14 हैंडपंप बंद है। बड़ी संख्या में बंद इन हैंडपंपों से ग्रामीणों को पेयजल नहीं मिल रहा है। ग्रामीणों को गर्मी में पानी के लिए दो-चार होना पड़ रहा है।
विकासखंड में 1950 हैंडपंप स्थापित है। खंड विकास कार्यालय की सूची के अनुसार एक अप्रैल से 10 मई तक 257 हैंडपंप खराब होने पर ठीक कराए गए है। जबकि 218 हैंडपंप रिबोर के लिए पड़े है। खंडविकास कार्यालय ने इन बंद रिबोर हैंडपंपों में से 50 पर शीघ्र रिबोर कराने की जरूरत है। हैंडपंपों की सूची बीडीओ आलोक आर्य ने जिला विकास अधिकारी को भेजकर शीघ्र रिबोर कराने का पत्र लिखा है। कुतुबपुर गांव में मौजूदा समय में 14 हैंडपंपों को रिबोर होना है। गांव के रामबाबू व निजाम ने बताया कि देवीचरन, हरीराम, मलखान, सुशील, राजबहादुर, विद्यालय व मसजिद के पास लगे हैंडपंपों के ठीक न होने से इस भीषण गर्मी में लोग एक एक बूंद पानी को तरस रहे है। ग्राम प्रधान शंकर प्रजापति ने बताया कि रिबोर के लिए हैंडपंपों की सूची जलनिगम को भेजी जा चुकी है। साथ ही विभागीय अधिकारियों से इस संबंध में मिलकर कहा गया है। इसके बावजूद हैंडपंपों के रिबोर का काम शुरू नहीं हुआ है।

Recommended

Spotlight

Related Videos

कश्मीर की इंशा ने व्हीलचेयर पर किया ऐसा ‘कमाल’

अब आपको मिलवाते हैं कश्मीर की रहनेवाली इंशा बशीर से। इंशा बशीर इन दिनों चर्चा में हैं क्योंकि इन्होंने व्हीलचेयर पर होने के बावजूद कश्मीर के लिए बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया और अब इंशा बाकी युवाओं के लिए मिसाल बन गई हैं।

18 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree