विज्ञापन

जल, जंगल, जमीन बचाएं स्वस्थ्य जीवन अपनाएं

Hamirpur Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
भरुआसुमेरपुर (हमीरपुर)। जहां एक ओर वन माफिया निजी हितों के लिए वृक्षों की कटाई करने में लगे हैं वहीं कुछ समझदार किसान इस प्रथ्वी को बचाने के लिए फलदार और इमारती लकड़ी के वृक्ष लगा रहे हैं। फलदार वृक्षों को लगाकर वह पर्यावरण सुधारने के साथ रोजी-रोटी भी चला रहे हैं। इस विकासखंड क्षेत्र के चंदौखी गांव के एक प्रगतिशील किसान के हाइवे किनारे के खेतों पर करीब 500 अमरूद के वृक्ष लहलहा रहे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
दुनिया को बचाने के लिए मनुष्य को जल, जंगल और जमीन बचानी होगी। मौजूदा समय में लोग स्वार्थवश लाभ के लिए पर्यावरण को नष्ट करने में लगे हैं। फैक्ट्रियां धुआं उगल रही है जबकि वन माफिया जंगलों का सफाया कर रहे हैं। इसके बावजूद कुछ समझदार और प्रगतिशील किसान पर्यावरण को संरक्षित करने के प्रयास में जुटे हैं। चंदौखी गांव के किसान कामता प्रसाद द्विवेदी ने हाइवे किनारे अपने खेतों पर करीब 500 अमरूद के पेड़ों का हराभरा बगीचा तैयार कर रहे है। इस बगीचे की चौकीदारी कर रहे प्रभु ने बताया कि वह छोटे छोटे वृक्षों को तैयार करने में लगा है। इसी तरह चंदपुरवा गांव में पूर्व प्रधान रामबिहारी कुशवाहा के कार्यकाल में मनरेगा के तहत कई एकड़ में बगीचा लगाया गया, जो आज पर्यावरण बचाने के साथ ही फल भी दे रहा है। किसान अयोध्या सिंह, संतोष सिंह, रामसनेही साहू, कामता प्रसाद अहिरवार, धर्मेंद्र सिंह सहित तमाम ऐसे पर्यावरण प्रेमी है जिन्होंने वृक्षों को सींच पाल कर बड़ा कर रहे हैं।

Recommended

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें
Pulwama Exclusive

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

आज का पंचांग : 17 फरवरी 2019, रविवार

रविवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग रविवार 17 फरवरी 2019.

17 फरवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree