विज्ञापन

अभी भी नहीं चेते तो अगली पीढ़ी कैसे लेगी सांस

Hamirpur Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। जल, जंगल, जमीन के संरक्षण के लिए आज नहीं चेते तो हमारी अगली पीढ़ी को सांस लेना दूभर हो जाएगा। बढ़ती आबादी, घटते पेड़ और सिकु ड़ते प्राकृतिक संसाधन मानव जीवन के लिए खतरे का संकेत दे रहे हैं। आज जरूरत है कि जन सहभागिता के आधार पर पर्यावरण संरक्षण करने की।
विज्ञापन
वर्ष 1947 में जिले की 30 फीसदी भूमि में वन थे, चूंकि यहां की भूमि प्रकृति क्षारीय है। जंगलों में परंपरागत आम, आंवला, किन्नो, अमरूद, नींबू, बेर, महुवा, गूलर, शीशम, अंजीर, जामुन, इमली, नीम बरगद, पीपल, सागौन के काफी वृक्ष लगे थे। जंगली जीवों के लिए पोखरों में पर्याप्त पानी रहता था लेकिन बदलते हालातों में विकास के नाम पर लोगों वनों को उजाड़ दिया। सरकारी योजनाओं से वन आक्षादित इलाके सिकुड़कर चार फीसदी रह गए। यानी 24 प्रतिशत वन क्षेत्र या तो खेतों में तब्दील हो गए या फिर आबादी बस गई। वातानुकूलित कमरों में बनाई गई योजनाओं को लागू करने में यहां की भूमि, प्रकृति व परंपरागत वृक्षों के विषय में कोई पड़ताल तक नहीं की गई और न ही यहां के जल स्रोतो, नदियों, तालाबों, पोखराें और कुओं की परवाह की गई। पूरे साल बहने वाली नदियां अपना अस्तित्व खोती जा रही है। वनीय इलाकों में मात्र झांड़िया, प्रोसपिस, जूली फ्लोरा ही अधिकाधिक मौजूदगी है। भूमि सख्त हो गई है, जंगलों से नमी नाम की चीज ही गायब हो गई। कभी शेर चीते, भालू, लकड़बघ्घे, बारासिंघा, हिरन आदि थे। इंसानों ने इन्हें भी खत्म कर दिया। आज केवल सियार, लोमड़ी व वनरोज बचे है। 2008 में विशेष वृक्षारोपण अभियान चलकर 1 करोड़ 26 लाख पौधे लगाए गए थे लेकिन उनमें कितने वृक्ष बचे हैं यह कहना मुश्किल है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

अमृतसर रेल हादसा: सिद्धू ने कहा- लाश पर राजनीति कर रही है बीजेपी

अमृतसर रेल हादसे पर पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बयान दिया है। सिद्धू ने हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार बताया है। सुनिए सिद्धू ने क्या कहा।

23 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree