विज्ञापन

बीटेक फाइनल के छात्र ने गोली मार खुद को उड़ाया

Hamirpur Updated Fri, 01 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
राठ(हमीरपुर)। कसबे से सटे अतरौलिया गांव में गुरूवार को तड़के बीटेक फाइनल के एक छात्र ने कनपटी पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली। इस सनसनीखेज घटना से परिजनों और रिश्तेदारों में कोहराम मच गया। युवक अपने मामा की लड़की की शादी से घर वापस आया था। घटना का सही कारण ज्ञात नहीं हो सका। हालांकि पुलिस इस मामले को प्रेम प्रसंग से जोड़ रही है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया है।
विज्ञापन
मझगवां थाने के उजनेह गांव निवासी सियाराम पाल का पूरा परिवार कसबे से सटे अतरौलिया गांव में रहता है। सियाराम का छोटा पुत्र नरेंद्र कुमार (21) ग्वालियर के कैलादेवी इंस्टीट्यूट में बीटेक फाइनल का छात्र है। बुधवार को उसके मामा भागीरथ पाल की लड़की ममता की कसबे के शिवम पैलेस से शादी थी। शादी में सम्मिलित होने के लिए नरेंद्र बीस दिन पहले घर आया था। रात में शादी समारोह संपन्न कराने के बाद नरेंद्र तड़के करीब साढेे़ तीन बजे घर आया और छत पर लेट गया। कुछ देर बाद उसने अपनी कनपटी पर 315 बोर के तमंचे से गोली मार ली। जिससे नरेंद्र छत पर ही लहूलुहान होकर गिर गया और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। मृतक के चचेरे भाई देवेंद्र पाल ने बताया कि परिवार में शादी होने के कारण घर केे सभी परिजन गए हुए थे। घर में केवल दो वृद्ध महिलाएं मौजूद थी। सुबह जब परिजन शादी से लौटे और छत पर नरेंद्र का लहूलुहान शव देखा तो कोहराम मच गया। बताया कि आगामी 14 व 28 जून को उसकी बहन सरोज और प्रभाक्रांति की शादी होनी थी। जिसकी तैयारी के लिए वह ग्वालियर से आया हुआ था। घटना के सही कारणों का अभी तक पता नहीं लग सका है। होनहार बीटेक छात्र की मौत से घर में कोहराम मचा हुआ था। मां और बहनें गश खाकर गिर रहीं थी। पिता तो मानों बुत हो गए थे। कोतवाली इंचार्ज अमित कुमार यादव ने बताया कि युवक ने आत्म हत्या की है। घटना के कारणों पर उन्होंने कहा कि प्रेम प्रसंग के मामले की जानकारी उन्हें हुई है। फिलहाल पुलिस जांच पड़ताल कर रही है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

मध्यप्रदेश चुनावः जनता से पैसे मांगकर इस मुख्यमंत्री ने लड़ा था चुनाव

बात सन् 1990 की है। 31 साल का एक युवा नेता मध्यप्रदेश की बुधनी सीट से चुनाव लड़ा और पहली बार विधायक बना. उसने पहले ही चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार को 22 हजार वोटों से मात दी.दिलचस्प बात ये थी कि इस नौजवान ने लोगों से पैसे मांगकर चुनाव लड़ा था.

22 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree