विज्ञापन

बिजली न मिलने से पेयजल आपूर्ति हुई बदतर

Hamirpur Updated Sun, 27 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
गोहांड (हमीरपुर)। कसबे में जलसंस्थान को नगर फीडर से जोड़कर बिजली सप्लाई दिए जाने का आश्वासन कोरा साबित हो रहा है। चार दिन के अंदर बिजली न मिलने से जलसंस्थान की पेयजल आपूर्ति बद से बदतर हो गई है। इसे लेकर नगर वासियों में आक्रोश है।
विज्ञापन
कसबे में विद्युत सब स्टेशन से क्षेत्र में छह फीडर गोहांड, चिकासी, बरूआ, कछुवा, जरिया व इटैलिया से आपूर्ति होती है। नगरवासी डा.धनीराम, राजेंद्र कुमार, कृपाल सिंह आदि ने बताया कि विद्युत सब स्टेशन की शुरूआत फरवरी 2006 में हुई थी। तभी से विभागीय अधिकारियों की मनमानी के चलते नगर की जलसंस्थान की आपूर्ति नगर फीडर से न कर अन्य दूसरे ग्रामीण फीडरों से की जाती रही है। मौजूदा समय में चिकासी फीडर से आपूर्ति हो रही है। जबकि चिकासी फीडर में करीब 10 गांव आते है। जिसमें प्राय: फाल्ट आने की वजह से फीडर आएदिन शटडाउन में रहता है और जलसंस्थान की आपूर्ति ठप रहती है। जलसंस्थान से टाउन फीडर जोड़ने के लिए पिछली मंगलवार को सैकड़ों पुरुष व महिलाओं ने खाली घड़े व बरतन लेकर बिजली घर में प्रदर्शन किया था। जिसको थानाध्यक्ष जरिया एसके पटेल द्वारा लोगों को समझाने बुझाकर लोगों को शांत किया था। अवर अभियंता ने दो दिन के अंदर जलसंस्थान की विद्युत आपूर्ति चिकासी फीडर से हटाकर टाउन फीडर से जोड़ने की बात कही थी। लेकिन समय बीत जाने के बाद आश्वासन हवा हवाई साबित हो रहा है। जिससे कसबा वासियों में भारी रोष है। उन्होंने शीघ्र ही पेयजल आपूर्ति कराए जाने की मांग की है। अन्यथा अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। इस मामले में पावर कारपोरेशन के अवर अभियंता अंसारी ने फोन रिसीव नहीं किया।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

इस बाबा का दावा, जानवरों से करेंगे संस्कृत में बात

खुद को भगवान बताने वाले स्वामी नित्यानंद ने एक अजीबोगरीब दावा किया है। नित्यानंद का एक प्रवचन इनदिनों काफी वायरल हो रहा है जिसमें वो दावा कर रहे हैं कि वो एक साल के अंदर जानवरों को संस्कृत और तमिल बोलने के काबिल बना देंगे।

20 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree