पेट्रोल मूल्य वृद्धि से महंगाई में लगी आग

Hamirpur Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

हमीरपुर। इस तपती गर्मी में पेट्रोल की मूल्य वृद्धि ने महंगाई की आग में पेट्रोल डालने का काम किया है। पेट्रोल की दाम बढ़ने से आम आदमी अब अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है। इससे उसकी गृहस्थी का बजट चरमरा गया है। डालर के मुकाबले रुपए की पतली हालत को देखते हुए पेट्रोलियम कंपनियों ने पेट्रोल के दामों में आग लगा दी। कंपनियों ने 7.50 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि कर दी है। बढ़े हुए दाम बुधवार रात 12 बजे से लागू हो गए हैं। चैनलों में दाम बढ़ने की खबर मिलते ही पंपों पर पेट्रोल भराने वालों की लंबी लाइनें लग गई। वहीं पेट्रोल पंप संचालक कम स्टाक बताते हुए ग्राहको को एक दो लीटर ही पेट्रोल दे रहे हैं।
विज्ञापन

कंपनियों ने पेट्रोल में करीब 7.50 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी आम आदमी की जेब ही काट दी है। पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा की गई बढ़ोत्तरी से आम जनता में खासा रोष है। पेट्रोल भराते समय रामऔतार ने बताया कि केंद्र सरकार हर मामले में विफल हो है। पेट्रोल की इस बढ़ोत्तरी से आम जनता का बजट बिगड़ गया है। दफ्तरों को आने जाने वाले लोगों को अनावश्यक बोझ उठाना पड़ेगा। बीरेंद्र ब्रहृमसिंह का कहना है कि पेट्रोल का दाम बढ़ने से हर चीज महंगी हो जाएगी। महंगाई में आग लग गई है। लक्ष्मीप्रसाद यादव का कहना है कि केंद्र सरकार के प्रधानमंत्री अर्थशास्त्री है। इसके बावजूद वह रुपए की गिरावट को नहीं रोक पा रहे है। यह चिंतनीय है। नगर व्यापार मंडल सुमेरपुर के अध्यक्ष महेश गुप्ता का कहना है कि केंद्र सरकार ने पेट्रोलियम कंपनियों को नियंत्रण मुक्त कर आम जनता के साथ धोखा किया है। यह कंपनियां कच्चे तेल तो कभी डालर के दाम बढ़ने का बहाना बनाकर पेट्रोल के दाम बढ़ा देते है। लेकिन कच्चे तेल कीमत घटने या रूपए की कीमत बढ़ने पर भी पेट्रोल के दाम नही घटाए जाते। जो लोगों के साथ अन्याय है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us