विज्ञापन

पुलिस सकारात्मक सोच के साथ काम करे

Hamirpur Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। इलाहाबाद जोन के पुलिस महानिरीक्षक आलोक शर्मा ने कहा कि उनका प्रयास पुलिस में सकारात्मक सोच बदलवाने का है ताकि थाने पहुंचने वाले पीड़ितों की व्यथा को समझने के साथ कार्रवाई की जा सके। आईजी ने कहा कि रेप की घटनाओं को रोकने और अपराधी को सजा दिलाने के साथ पीड़ित को जल्द न्याय दिलाने वाले थानेदार को इनाम देकर सम्मानित किया जाएगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
पुलिस महानिरीक्षक ने बुधवार को मुख्यालय में पुलिस लाइन सभागार में सीओ व थानाध्यक्षों की बैठक ली। इसके बाद जनप्रतिनिधियों से भेंट की और मीडिया से मिले। बैठक में थानाध्यक्षों को जनता की प्राथमिकताएं बताने आए है। पुलिस से एक ही बात कही जा रही है कि वह अपनी सोच बदले। पुलिस के पास कुछ चीजें कंट्रोल में है। जो पीड़ित है उस व्यक्ति की पीड़ा को समझे। कोई भी व्यक्ति थाने जाने से डरता है। लोगों की इस सोच को बदलने का काम करना है। थानेदार अपने सिपाही तक बात पहुंचाए कि वह संबंधित पीड़ित की बात को ध्यान से सुने। वह घटनाओं का इंतजार किए बगैर जनता के बीच रहकर काम करना सीखे। बाइक र्स गैंग की घटनाओं पर कहा कि बाइक बनाने वाली कंपनियों के पास मात्र दस प्रकार के ताले है। ऐसे में बाइक चोरी न हो, इसके लिए संबंधित बाइक मालिक को एडीशनल लॉक का इंतजाम करना होगा। इसी माह जोन में चोरी गई 38 बाइकें बरामद हुई है। उन्होंने बाल यौन शोषण पर कहा कि ऐसी घटनाएं मंडल में ज्यादा हो रही है। इसे रोकने के लिए अपराधी को सजा दिलाने में पहल करनी होगी। अदालत में ज्यादा से ज्यादा पैरवी कर अपराधी को सजा दिलाने में वाले थानाध्यक्षों को वह अधिक से अधिक इनाम देने का प्रयास करेंगे। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक सैय्यद वसीम अहमद मौजूद रहे।

Recommended

कोर्ट--कचहरी का हो चक्कर या फिर शत्रुओं से हों परेशान, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से
ज्योतिष समाधान

कोर्ट--कचहरी का हो चक्कर या फिर शत्रुओं से हों परेशान, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

शहीद मेजर विभूति की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब, दिलेर पत्नी ने ऐसे दी अंतिम विदाई

मंगलवार को पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हए मेजर मेजर विभूति ढौंडियाल को अंतिम विदाई दी गई। मेजर विभूति को अंतिम विदाई से पहले उनकी दिलेर पत्नी निकिता ने उन्हें सैल्यूट किया।

19 फरवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree