पार्टी के खिलाफ जाना पीसीसी सदस्या को पड़ेगा भारी

Hamirpur Updated Wed, 23 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

हमीरपुर। कांग्रेस विधायक गयादीन अनुरागी के खिलाफ फर्जी मुकदमा दर्ज कराने व अनशन कर पार्टी की छवि कराने का खामियाजा पीसीसी सदस्या को भारी पड़ सकता है। इस मामले में प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के निर्देश पर प्रदेश प्रशासन प्रभारी पूर्व गृहमंत्री रंजीत सिंह जू देव ने पीसीसी सदस्या से पांच दिन में साक्ष्य के साथ प्रदेश कार्यालय में प्रस्तुत करने को कहा है। प्रदेश कार्यालय ने इस आशय की सूचना जिलाध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारियों को भेजी है।
विज्ञापन

कांग्रेस विधायक गयादीन अनुरागी और पीसीसी सदस्या आशारानी के बीच चल रहा विवाद प्रदेश कार्यालय पहुंच गया है। पीसीसी सदस्या आशारानी को पार्टी जनों ने मनाने के प्रयास लेकिन वह नहीं मानी। जिला प्रभारी पूर्वमंत्री बिहारी लाल आर्य की कोशिशें भी नाकाम हो गई। जिद पर अड़ी महिला नेता ने विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करानेे के बाद ही अनशन तोड़ा। इस प्रकरण में जिला कांग्रेस कमेटी ने पीसीसी सदस्या के खिलाफ भेजी गई शिकायत को गंभीरता से लिया है। प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के निर्देश पर प्रदेश प्रशासन प्रभारी पूर्व गृहमंत्री रणजीत सिंह जूदेव ने पीसीसी सदस्या सहित कार्यवाहक जिलाध्यक्ष प्रेमचंद्र निषाद, प्रदेश महासचिव राजेंद्र सिंह चौधरी, जिला प्रभारी पूर्व मंत्री बिहारीलाल आर्य व राठ विधायक को पत्र भेजा है। कांग्रेस के पार्टी प्रवक्ता लक्ष्मीकांत त्रिपाठी ने बताया कि प्रदेश कार्यालय से आए पत्र में कहा गया है कि वह अगले पांच दिनों के अंदर अपने कथन के साक्ष्य प्रदेश कमेटी को उपलब्ध कराएं। साथ ही कहा कि शिकायतों का समाधान पार्टी फोरम में ही निस्तारित किया जाए।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us