विज्ञापन

वटवृक्ष की पूजा कर पति की लंबी आयु मांगी

Hamirpur Updated Mon, 21 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हमीरपुर। ज्येष्ठ माह की अमावस्या पर महिलाओं ने वट वृक्ष का पूजन कर पतियों के दीर्घायु होने की कामना की। इस मौके पर महिलाओं ने वट वृक्ष पर अड़िया धागे को लपेट कर पूजा अर्चना की। रविवार को महिलाएं पति की दीर्घायु होने के कामना को लेकर सुबह से ही वट वृक्षों के पास पहुंचकर पूजा की। इस मौके पर महिलाएं सोलह श्रृंगार कर पूजा की थाल के साथ अड़िया धागे से वट वृक्ष के चारो तरफ परिक्रमा कर धागे को लपेटा।
विज्ञापन
राठ । ज्येष्ठ मास की अमावस्या पर सुहागिन महिलाओं ने वट वृक्ष के नीचे विधि विधान से पूजा अर्चना कर पति के दीर्घायु होने की कामना की। सुहागिनों ने वट वृक्ष के चारो ओर कच्चा सूत लपेटकर 108 फेरे लगाए।
ऐसी मान्यता है कि बरगदी अमावस्या पर सुहागिन महिलाएं व्रत रखकर सत्यवान सावित्री और यमराज की पूजा करने से पति की उम्र लंबी और परिवार खुशहाल रहता है। सावित्री ने इसी व्रत के प्रभाव से पति सत्यवान के प्राण यमराज से वापस ले लिये थे। बुधवार को कसबे के चौपरा मंदिर, गायत्री मंदिर, धुपकली तालाब, जीजीआईसी स्कूल, वन विभाग, कबीर चौरा मंदिर, महावीरन में लगे वटवृक्ष के पेड़ों के नीचे श्रृंगार के साथ सुहागिनों ने निर्जला व्रत रख बरगद के पेड़ में सूत लपेटा और फेरे लेकर विधि-विधान से आरती उतारी। सुहागिनों ने वटवृक्ष के नीचे गुड़, आटा से बने गुलगुले, बिंदी, चूड़ी, फल सिंदूर और पीले सूत की माला की पूजा कर सत्यवान और सावित्री की कथा सुनी। कल्पना, शशि, शशिबाला, शिवबती मिश्रा ने बताया कि इस व्रत के रखने से पति की लंबी आयु और सुहागिन होने का वरदान मिलता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

FB LIVE : एशिया कप में भारत-बांग्लादेश के बीच महाटक्कर, कौन किस पर भारी?

टीम इंडिया शुक्रवार को सुपर चार के अपने पहले मुकाबले में उलटफेर में माहिर बांग्लादेश के खिलाफ उतरेगी। देखिए इसी पर अमर उजाला डॉट कॉम पर FB LIVE

21 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree