बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

बांदा में परीक्षा केंद्र होने से छात्राओं के समक्ष मुसीबत

Hamirpur Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

हमीरपुर। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय झांसी प्रशासन के एक गलत फैसले से बीएड में अध्ययनरत छात्राएं परेशान है। छात्राओं ने डीएम को प्रार्थना पत्र देकर परीक्षा केंद्र बदलने की मांग की है। अभ्यर्थियों का आरोप है कि परीक्षा केंद्र उसी महाविद्यालय या जनपद के किसी अन्य महाविद्यालय में करने के बजाए दूसरे जिले में कर दिया गया है। जिसके चलते उन्हें मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा।
विज्ञापन

सुमेरपुर कसबे में श्रीस्वामी नागाजी बालिका महाविद्यालय में बीएड में अध्ययनरत महिला अभ्यर्थी निधि सचान, विनीता, चंद्रप्रभा, नीतू सिंह, रूबी कुशवाहा, किरन देवी, प्रीती वर्मा, कृष्णलता, रोहिणी सहित अन्य छात्राओं ने डीएम बी चंद्रकला को दिए प्रार्थना पत्र में बताया कि वे लोग किराए का कमरा लेकर सुमेरपुर पढ़ाई कर रही है। कुछ छात्राओं की शादियां हो गई है तथा उनके बच्चे है। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय प्रशासन ने गलत निर्णय लेते हुए इस विद्यालय की छात्राओं का परीक्षा केंद्र बांदा के पंडित जवाहर लाल नेहरू महाविद्यालय में बनाया। जिसके चलते उन्हें परीक्षा देने में मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा। परीक्षाएं 25 मई से 8 जून तक प्रस्तावित है। बांदा में सेंटर होने से उन्हें रुकने की व्यवस्था के लिए किराए के कमरे खोजने पड़ेंगे। बांदा शहर कमिश्नरी होने से महंगा हो गया है। छात्राओं ने डीएम से मांग की है कि इस विद्यालय का परीक्षा केंद्र जिला मुख्यालय के महाविद्यालयों में बनाया जाए। इस मौके पर बीएड बेरोजगार संघ के जिलाध्यक्ष गणेश गुप्ता व दिलीप सिंह सचान भी मौजूद रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X