Hindi News ›   ›   बारदाना खत्म करने की आड़ में गेहूं तुलाई बंद

बारदाना खत्म करने की आड़ में गेहूं तुलाई बंद

Hamirpur Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
राठ(हमीरपुर)। पीसीएफ गेहूं क्रय केंद्र पर बारदाना खत्म होने से गेहूं की तुलाई बंद हो गई। अभी भी सैकड़ों किसान गेहूं तुलवाने के लिए नंबर का इंतजार कर रहा है। किसानों ने एसडीएम से गेहूं की तौल कराने की मांग की है।
विज्ञापन

पिछले डेढ़ महीने से मंडी के गेहूं क्रय केंद्रों का हाल खराब है। हालत यह है कि केंद्रों पर किसानों के गेहूं की तुलाई नहीं की जा रही है जबकि चोरी छिपे रात में व्यापारियों का गेहूं खरीदा जा रहा है। पिछले एक पखवारे से नंबर लगाये किसानों का अभी तक नंबर नहीं आया है। पीसीएफ केंद्र पर पिछले दो दिन से बारदाना खत्म हो गया है। मंडी में गेहूं बेंचने के लिए एक पखवारे से क्रय केंद्र में सैदपुर गांव के किसान महेश चन्द्र, अनिल धनौरी, नरेंद्र सिंह दीवानपुरा राठ, श्याम लाल मिश्रा मुगलपुरा राठ, हंसराज महजौली, सुरेेंद्र अग्रवाल, मुन्नी लाल यादव, मोहित यादव, शंकर लाल, मलखान ने बताया कि केंद्र पर खुले आम व्यापारियों का गेहूं तौला जा रहा है। आरोप है कि व्यापारियों से साठगांठ और दबंगों का गेहूं ही तौला जा रहा है। नंबर आने के बाद भी उनके गेहूं की तुलाई नहीं की जाती है। किसानों के गेहूं तुलाई के नाम पर बारदाना खत्म होने की बात कही जा रही है। जबकि व्यापारियों को चोरी छिपे बारदाना देकर उनका गेहूं खरीदा जा रहा है। किसानों ने बताया कि पीसीएफ केंद्र पर डेढ़ महीने की खरीद में अभी तक 35 नंबर तक के किसानों का गेहूं तुला है। इस केंद्र की खरीद टनों में दिखाई गई है। आखिर इतना गेहूं कहां से आया। किसानों ने शासन से गेहूं तुलाने और इस केंद्र की जांच पड़ताल करने की मांग की है।

किसान यूनियन ने शुरू किया धरना
राठ(हमीरपुर)। कृषि उत्पादन मंडी समिति में किसानों को समर्थन मूल्य दिलाने के लिए गुरुवार को किसान यूनियन ने अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। यूनियन के जिलाध्यक्ष निरंजन सिंह कहा कि क्रय केंद्रों पर भ्रष्टाचार के चलते केंद्र प्रभारी किसानों के गेहूं की तुलाई न कर व्यापारियों से साठगांठ कर उनका गेहूं खरीद रहे हैं। मजबूरी में किसान को समर्थन मूल्य नहीं मिलता। जराखर गांव का किसान रामपाल पुत्र बालादीन का गेहूं व्यापारियों ने 960 रुपए में खरीदा। किसान ने इसकी शिकायत मंडी सचिव से की तो कोई कार्यवाही नहीं हुई। मंडी में बोली के दौरान किसानों को समर्थन मूल्य नहीं मिलेगा उनका अनशन जारी रहेगा। यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष रामसनेही राजपूत, रामपाल सिंह, जयपाल, रूपसिंह वीरा, कुंज बिहारी, मानिक चन्द्र, लखन लाल, राजेंद्र कुमार, नरेंद्र, मइयादीन ईश्वरदास आदि मौजूद रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00