विज्ञापन

लोकविधा के संवर्धन व संरक्षण की जरूरत

Hamirpur Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। बुंदेलखंड में लोक विधा के कलाकारों की कमी नहीं है, बस जरूरत है संवर्धन व संरक्षण की। इसी को देखते हुए जिलाधिकारी बी चंद्रकला के प्रयास सफल होते दिख रहे है। गुरुवार को केंद्र सरकार से संचालित उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के निदेशक आनन्द वर्धन शुक्ला ने मुख्यालय में सितंबर में देशभर के 150 कलाकारों के जरिए दो दिन लोकविधा (माटी के रंग) नाम से लोगों को रूबरू कराने की हामी भरी।
विज्ञापन
विज्ञापन
सांस्कृतिक केंद्र इलाहाबाद के निदेशक गुरुवार को मुख्यालय आए और कहा कि उनका केंद्र सात प्रांतों में काम कर रहा है। वह बड़े बड़े महानगरों में इस विधा को जीवंत करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन महानगरों में लोग बहुत कम संख्या में आते है। लोक कलाएं धीरे धीरे सिकुड़ती जा रही है। इसके चलते अब वह इस प्रयास में है कि छोटे जनपदों जहां इस तरह के कार्यक्रम नहीं होते है वहां इस विधा को जीवंत करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने ने कहा कि जिलाधिकारी इलाहाबाद में रही है। उनके आग्रह पर वह आए हैं। सितंबर में चित्रकूट, हमीरपुर, मैनपुरी, सहारनपुर व पीलीभीत में कार्यक्रम कराएंगे। वह रजत जयंती मना रहे है। यह भी बताया कि प्रदेश के कई स्थानों पर 31 मई 2013 तक कार्यक्रम होंगे। उन्होंने बताया कि दूसरे प्रांतों से डेढ़ सौ कलाकार आएंगे। डायरेक्टर ने बताया कि कलाकारों को प्रोत्साहन राशि में वृद्धि के प्रयास किए गए है। अभी उन्हें मात्र 400 रुपए पारिश्रमिक मिलता है जिसे बढ़ाकर 1 हजार किया जाना है। इस मौके पर जिलाधिकारी के प्रयास से एक दिन होने वाले कार्यक्रम को दो दिन किए जाने की हामी डायरेक्टर ने भर ली। आगामी सितंबर में चित्रकूट के बाद हमीरपुर शहर में लोक सांस्कृतिक कार्यक्रम होगा। इसमें स्थानीय लोक कलाकारों के भी कार्यक्रम कराए जाएंगे।

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें और प्रसाद की होम डिलीवरी पायें
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें और प्रसाद की होम डिलीवरी पायें

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जब इंदिरा गांधी ने कहा था- प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे और..

जब प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे उसको याद करेंगे। ये शब्द इंदिरा गांधी के हैं। कुछ ऐसा भरोसा था उन्हें अपनी लाड़ली प्रियंका पर। वही प्रियंका जो अब आधिकारिक तौर पर कांग्रेस की महासचिव बन चुकी हैं।

23 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree