'My Result Plus

बंदी के परिजनों का हंगामा, लगाया जाम

Hamirpur Updated Thu, 17 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। जिला कारागार में मंगलवार को हुई मारपीट की घटना के बाद जेल प्रशासन ने बुधवार को बंदी के परिजनों को मुलाकात कराने से मना कर दिया। इससे नाराज बंदी के परिजनों ने हंगामा करते हुए जिला जेल के सामने मुख्य सड़क पर जाम लगा दिया। परिजनों ने एडीएम को ज्ञापन देकर जेल प्रशासन पर आरोप लगाया कि जेल में निरुद्ध बंदी को पीटकर मरणासन्न कर दिया है। परिजनों ने उसकी मौत होने की भी आशंका जताई।
जिला कारागार की बैरिक नंबर एक में थाना सुमेरपुर के पत्योरा गांव के बंदी अरविंद उर्फ लल्ला, पंधरी गांव का भूरा, थाना बिवांर के निवादा गांव का उपेंद्र सिंह उर्फ कुर्रा के बीच नशेबाजी को लेकर विवाद हो गया था। इसमें अरविंद और भूरा ने मिलकर उपेंद्र को पीट दिया था। इसकी जानकारी बुधवार को अरविंद उर्फ लल्ला की पत्नी शालिनी, ससुर करन सिंह, चचेरा भाई बऊवा सिंह, बहनोई धर्मेद्र सिंह भदौरिया औरेया व श्यामबाबू सिंह निवासी बजेहटा, बहनें मधु, रीतू व किरन मुलाकात करने जिला जेल पहुंच गए। जेल प्रशासन ने अरविंद से मुलाकात पर 15 दिन के लिए रोक लगाने की बात कहते हुए मुलाकात पर्चियां नहीं काटीं। संदेह होने पर परिजनों ने एडीएम को ज्ञापन देकर विचाराधीन कैदी लल्ला सिंह से मुलाकात नहीं कराए जाने की शिकायत की। साथ ही आशंका जताई कि अत्यधिक पिटाई से कैदी की मौत हो जाने पर मौत जेल प्रशासन मुलाकात कराने से मना कर रहा है। इस मामले में एडीएम ने डिप्टी कलेक्टर रामजस गौतम को कारागार भेजा। उन्होंने बताया कि जेल में कैंटीन चलाए जाने की शिकायत पर जांच को आए थे। उधर, नाराज परिजन हंगामा काटते हुए कारागार के सामने सड़क पर बैठ गए। इससे करीब जाम लग गया। परिजन जेल प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी करने लगे। इस पर जेल अधीक्षक एचआर दोहरे बंदी के किसी एक परिजन से मुलाकात कराने को राजी हो गए। बंदी से धर्मेद्र सिंह को मिलवाया गया। मुलाकात के बाद धर्मेंद्र ने बताया कि लल्ला ने शरीर में चोटें होने की बात कही है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: बीजेपी विधायक के भाई की गुंडागर्दी, मजदूर को इतनी बुरी तरह की मारा

बीजेपी एमएलए के भाई की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। मिल्कीपुर से बीजेपी विधायक गोरखनाथ बाबा के भाई विक्की बाबा पर मजदूर को पेड़ से बांधकर मारने के आरोप लगे हैं।

22 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen