नौरंगा अटगांव, मझगवां स्वास्थ्य केंद्र में नही रहते डाक्टर

Hamirpur Updated Tue, 15 May 2012 12:00 PM IST
राठ(हमीरपुर)। नौरंगा गांव के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीन बने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डाक्टरों, फार्मासिस्टों के न रहने से ग्रामीणों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। मजबूरी में ग्रामीणों को झोला छाप की शरण में जाना पड़ता है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डा. एके सिंह ने बताया कि वे अस्पताल में रहते हैं। अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाएं रोगियों को दी जा रही है।
दो साल पहले नौरंगा में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को खोला गया था। अधिकांश समय डाक्टरों, फार्मासिस्टों और वार्ड वाय के गायब रहने से रोगियों को इलाज के लिए भटकना पड़ रहा है। मझगवां, अटगांव के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का हाल खराब है। अटगांव के किसान जमुनादीन, परशुराम ने बताया कि अस्पताल की ओर स्वास्थ्य सेवाएं नहीं दी जा रही है। हालत यह है कि आपातकालीन सेवाएं भी ठप हैं। इमरजेंसी होने पर रोगी को राठ या झांसी ले जाना पड़ता है। इसी तरह से महिलाओं के प्रसव के लिए भी यहां पर कोई सुविधाएं नहीं है।

Spotlight

Related Videos

ITR भरने में की गड़बड़ी तो जाना पड़ सकता है जेल

आयकर विभाग ने वेतनभोगी कर्मचारियों को गलत आयकर रिटर्न ( आईटीआर ) दाखिल करने के प्रति आगाह किया है। विभाग ने कहा है कि ऐसे करदाताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी तथा उनके नियोक्ताओं को भी इस संबंध में सूचित किया जाएगा।

19 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen